सरकार ने सचिव सौजन्या से महिला सशक्तिकरण व बाल विकास विभाग हटा दिया

राज्यमंत्री रेखा आर्य और आईएएस व निदेशक वी. षणमुगम के विवाद के बाद सरकार ने सचिव सौजन्या से महिला सशक्तिकरण व बाल विकास विभाग हटा दिया है। अब यह जिम्मेदारी अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार को दी गई है।

  • महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग में भर्ती एजेंसी के चयन को लेकर पिछले माह विभागीय मंत्री रेखा आर्य व अपर सचिव व विभागीय निदेशक वी.षणमुगम के बीच विवाद हो गया था।
  • आईएएस के छुट्टी पर जाने व फोन बंद करने के बाद विभागीय मंत्री ने इसे मुद्दा बना लिया और नौकरशाह पर प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने का भी आरोप लगाया था। उन्होंने नौकरशाह के अपहरण की आशंका जताते हुए पुलिस को सूचना भी दी थी।
  • मामले के सुर्खियों में आने के बाद स्वयं मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को हस्तक्षेप करना पड़ा था। सीएम के निर्देश के बाद मामले की जांच अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार को सौंपी गई। 
  • उधर, इस प्रकरण के बाद अपर सचिव वी.षणमुगम ने कार्मिक विभाग से महिला सशक्तिकरण विभाग हटाने की गुजारिश की थी।
  • इस पर उनसे निदेशक का जिम्मा हटा दिया गया था, लेकिन अपर सचिव का दायित्व बरकरार है। अब सरकार ने सचिव सौजन्या से भी यह विभाग हटा दिया है। सूत्रों ने बताया कि सचिव सौजन्या ने भी खुद यह इच्छा जाहिर की थी। 

रमन को वन की जिम्मेदारी

  • सीएम के सचिव और आयुक्त कुमाऊं मंडल अरविंद ह्यांकी से वन विभाग का जिम्मा वापस ले लिया है।
  • गढ़वाल के कमिश्नर व सचिव रविनाथ रमन को यह जिम्मा सौंपा गया है।
  • प्रभारी सचिव डॉ. पंकज पांडेय को कार्यक्रम क्रियान्वयन का अतिरिक्त प्रभार दिया है।