व्यंग्य : 15-15 लाख के चैक दोगे या 100 के नोट दोगे अमित बाबू

6c06a1ac-fab1-4598-a683-f80भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जल्द ही देहरादून आने वाले हैं और नोटों की बारिश करने वाले हैं। आंकड़ों से यह भी पता चला है कि अमित बाबू 13 नवम्बर को देहरादून में सभी को 15-15 लाख रूपये के चैक देंगे। सुनने में यह भी आया है कि 100-100 के नोट जनता को देंगे और वापस भी नहीं लेंगे। मोदी जी ने 500-1000 के नोटों को बंद करवाया और अमित शाह जी से कहा कि ‘‘तुम जाओ और देहरादून में जनता को 100-100 के नोट देकर आओ।’’ देखें तो सही अमित बाबू सभी को 15-15 लाख रूपये में जनता को 50 के नोट देते हैं या 100 के।

खैर अभी तो अमित बाबू घर से निकले भी नहीं और क्या उनकी रणनीति है, ये तो वही जानें। कल ही देहरादून से अजय भट्ट (अज्जू) ने अमित बाबू को मैसेज किया और बोला कि ‘‘ओह अमित बाबू, आपको ऐसी क्या आन पड़ी, जो 15-15 लाख बांट रहे हो। वैसे मैं अपने नजरिये से देखूं तो लगता है कि आप चुनाव की बखूबी तैयारियां कर रहे हो अमित बाबू। उत्तराखण्ड में भारतीय जनता पार्टी भी आ जाएगी। आप 15-15 लाख रूपये के चैक मत दो, बल्कि 100-100 के नोट बनाकर बांट दो।

देखो जी, क्या-क्या होने लगा है आजकल तो। चुनाव भी सामने हैं, पैंसे भी बंट रहे हैं। अब तो यही लग रहा है कि अमित बाबू भी शायद चुनाव के लिए ही जनता को मस्का लगाने आ रहे हैं। लग तो यही है कि अमित बाबू चुनावी परिक्षेत्र को में रंग जमाना चाह रहे हैं। उत्तराखण्ड का के चुनाव भारतीय जनता पार्टी को ही सत्ता पर लाने के लिए चुनावी जन-धन की योजना चला रहे है। चुनावी जन-धन अर्थात चुनाव के लिए जनता को पैसा देना।

क्या हो गया आपको अमित बाबू आपको। जनता को 15-15 लाख रूपये देकर वोट की रस्सा-कस्सी कर रहे आप। अरे अमित बाबू, आप बस जनता को 100-100 के नोट ही दे दें, आपको कुछ तो अच्छा मिलेगा। वैसे भी आजकल जनता 100 के नोट को पाने के लिए हजारों खर्च कर रहे है। बहरहाल, इतना बता दें आपके 15-15 लाख राजनीति नहीं बदल देंगे। अमित बाबू राजनीति तो संभावनाओं का खेल है।


नोट: यह एक व्यंग्य है, इसमें सच्चाई को हास्य के साथ बंया करने का प्रयत्न किया गया है।