उम्मीद है की अक्टूबर माह के अंत तक यूपीएससी के नतीजे जारी

UPSC Prelims Result 2020: संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) सिविल सर्विेसेज की प्रारंभिक परीक्षा के रिजल्ट का इंतजार जल्द खत्म हो सकता है।

  • 4 अक्टूबर 2020 को आयोजित हुई यूपीएससी प्रीलिम्स 2020 के आंसर की और प्रश्न-पत्र जारी किए जा चुके हैं।
  • यूपीएससी की ओर अब किसी भी दिन सिविल सर्विसेज प्रारंभिक परीक्षा के नतीजे घोषित किए जा सकते हैं।
  • उम्मीद है की अक्टूबर माह के अंत तक यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा के नतीजे लोक सेवा आयोग की वेबसाइट upsc.gov.in पर जारी कर दिए जाएंगे। 
  • यूपीएससी 2019 के रिकॉर्ड को देखें तो पता चलेगा कि पिछले साल प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन 2 जून को किया गया और इसका रिजल्ट 12 जुलाई को जारी हुआ था।
  • लेकिन इस साल मई में होने वाली परीक्षा कोरोना वायरस के चलते अक्टूबर में हो सका है।
  • ऐसे में अब और ज्यादा देरी न करते हुए लोक सेवा आयोग इस महीने के अंत तक रिजल्ट जारी कर सकता है। 

यूपीएससी प्रीलिम्स की कट-ऑफ कम रहने का अनुमान-

  • हालांकि यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा के कट-ऑफ का अनुमान लगाना आसान बात नहीं है, लेकिन ऐसी कुछ परिस्थितियां हैं जो कि बता रही हैं कि कट ऑफ काफी नीचे रहेगा।
  • सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों की बात करें तो 2018 और 2019 में इनका यूपीएससी प्रीलिम्स का कट ऑफ 98 रहा।
  • जबकि 2017 की प्रीलिम्स में यह 105 था। 2018 में समसामायिक अध्ययन से अधिक प्रश्न से थे जबकि विषयों से कम।
  • अब बात करें इस साल के कट ऑफ की तो विषयों के अनुपात और अंकों में कोई बहुत भिन्नता नहीं दिखी।
  • पिछले साल 15 प्रश्न राजनीति से थे तो इस साल 16 प्रश्न थे। पिछले साल 14 प्रश्न अर्थशास्त्र से तो इस साल भी।
  • वहीं सामान्य विज्ञान के प्रश्न पिछले साल 7 थे तो इस साल 14 प्रश्न थे। विषय के हिसाब से देखें तो पेपर में काफी समानता दिखती है।
  • इन सब के अलावा इस साल 50 फीसदी से ज्यादा अभ्यर्थियों ने यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा छोड़ दी है। यह भी कट ऑफ कम रहने का एक कारण हो सकता है।
  • यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा 2020 के लिए करीब 10 लाख छात्रों नेे रजिस्ट्रेशन कराया था।
  • इस परीक्षा को रद्द किए जाने को लेेकर सुप्रीम कोर्ट मेें याचिका दायर की गई थी जिसके खारिज होने के बाद परीक्षा 4 अक्टूबर को आयोजित हुुई।
  • पहले यह परीक्षा मई में होनेे  काे प्रस्तावित थी।