स्टीव जॉब्स की डेथ एनिवर्सरी के रूप में इतिहास में दर्ज है

5 अक्टूबर 2011 की तारीख

  • अक्सर लोग अपनी जिंदगी में कुछ ऐसे कारनामे अंजाम दे जाते हैं जिसकी वजह से उन्हें हमेशा याद किया जाता है. ऐसा ही एक नाम है स्टीव जॉब्स का.
  • दुनियाभर में कंप्यूटर और मोबाइल फोन के क्षेत्र में क्रांति के अग्रदूत माने जाने वाली एप्पल कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स का निधन आज ही के दिन हुआ था.
  • 5 अक्टूबर 2011 की तारीख स्टीव जॉब्स की डेथ एनिवर्सरी के रूप में इतिहास में दर्ज है.

1976 में कंपनी हुई थी शुरू

  • स्टीव जॉब्स के दोस्त बिल फर्नांडिज के मुताबिक एक अप्रैल 1976 को उन दोनों ने एपल शुरू की और बिल एप्पल के पहले एंप्लॉई बने.
  • 1977 में एपल लिस्टेड हुई. रॉड होल्ट इंजीनियरिंग डिविजन के हेड बने. 
  • एप्पल कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स 1974 से 1976 के बीच भारत भ्रमण पर निकले.
  • वह टूरिज्म के मकसद से भारत नहीं आए थे. वह अध्यात्मिक खोज में यहां आए थे उन्हें एक सच्चे गुरू की तलाश थी.
  • स्टीव पहले हरिद्वार पहुंचे और इसके बाद वह कैंची धाम तक पहुंच गए. यहां पहुंचकर उन्हें पता लगा कि बाबा समाधि ले चुके हैं.

नीम करौली बाबा के थे भक्त

  • कहा तो यह भी जाता है कि स्टीव को एप्पल के LOGO का आइडिया बाबा के आश्रम से ही मिला था.
  • नीम करौली बाबा को कथित तौर पर सेब बहुत पसंद थे यही वजह थी कि स्टीव ने अपनी कंपनी के लोगों के लिए कटे हुए एप्पल को चुना.
  • हालांकि इस कहानी की सत्यता के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है.