Bihar Election 2020 : पूर्णिया विधानसभा सीट के पिछले नतीजे

बिहार का पूर्णिया विधानसभा सीट पूर्णिया लोकसभा के तहत आता है। 1951 में ही पूर्णिया विधानसभा सीट अस्तित्व में आ गया था।

  • 1951 में कांगेस की टिकट पर कमलदेव नारायण सिन्हा ने पूर्णिया सीट पर जीत हासिल की थी।
  • वहीं 1957 और 1962 के चुनाव में कमलदेव नारायण सिन्हा ने पूर्णिया सीट पर कांग्रेस के कैंडिडेट के तौर पर जीत हासिल कर लिया था। 1967 और 1969 के विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेसी कैंडिडेट कमलदेव नारायण सिन्हा ने पूर्णिया सीट पर जीत का सिलसिला बरकरार रखा था।
  • 1972 में यहां हुए विधानसभा चुनाव में एनसीओ के टिकट पर एक बार फिर कमलदेव नारायण सिन्हा ने विरोधियों को मात दे दिया था लेकिन 1977 के चुनाव में पूर्णिया में जनता पार्टी के कैंडिडेट देवनाथ रॉय ने जनता का समर्थन हासिल कर लिया था। 
  • वहीं 1980, 1985, 1990 और 1995 में सीपीएम कैंडिडेट अजित सरकार ने किसी भी विरोधी दल के नेता को टिकने नहीं दिया था। 1998 के उपचुनाव में माधवी सरकार ने एजीपी पार्टी के कैंडिडेट के तौर पर जीत हासिल किया था।
  • 2000, 2005 और 2010 के विधानसभा चुनाव में राजकिशोर केसरी ने बीजेपी के कैंडिडेट के तौर पर लगातार जीत हासिल किया था। वहीं 2015 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी कैंडिडेट विजय खेमका ने सभी विरोधियों को मात दे दिया था।

विधानसभा चुनाव 2015 के नतीजे

  • अगर आंकड़ों के हिसाब से बात करें तो साल 2015 के विधानसभा चुनाव में पूर्णिया सीट से बीजेपी की टिकट पर विजय खेमका ने जीत हासिल की थी।
  • विजय खेमका ने चुनाव में 92 हजार 20 वोट हासिल किया था। वहीं कांग्रेस की कैंडिडेट इंदु सिन्हा को 59 हजार 205 वोट ही मिल पाया था।
  • इस तरह से विजय खेमका ने इंदु सिन्हा को 32 हजार 815 वोट के बड़े अंतर से हरा दिया था। वहीं निर्दलीय कैंडिडेट रामचरित्र यादव, 7 हजार 614 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहा था।

विधानसभा चुनाव 2010 के नतीजे

  • अगर आंकड़ों के हिसाब से बात करें तो साल 2010 के विधानसभा चुनाव में पूर्णिया सीट से बीजेपी की टिकट पर राजकिशोर केसरी ने जीत हासिल की थी।
  • राजकिशोर केसरी ने चुनाव में 54 हजार 605 वोट हासिल किया था। वहीं कांग्रेसी कैंडिडेट रामचरित्र यादव ने 39 हजार 6 वोट हासिल किया था।
  • इस तरह से राजकिशोर केसरी ने रामचरित्र यादव को 15 हजार 599 वोट के बड़े अंतर से हरा दिया था।
  • वहीं सीपीएम कैंडिडेट अमित कुमार ने 23 हजार 61 वोट लेकर तीसरा स्थान हासिल किया था।

विधानसभा चुनाव 2005 के नतीजे

  • अगर आंकड़ों के हिसाब से बात करें तो साल 2005 के विधानसभा चुनाव में पूर्णिया सीट से बीजेपी की टिकट पर राजकिशोर केसरी ने जीत हासिल की थी।
  • राजकिशोर केसरी ने चुनाव में 46 हजार 841 वोट हासिल किया थाष। वहीं आरजेडी कैंडिडेट रामचरित्र यादव को 30 हजार 262 वोट मिले थे।
  • इस तरह से राजकिशोर केसरी ने रामचरित्र यादव को 16 हजार 579 वोट से हरा दिया था। वहीं एलजेपी कैंडिडेट इरशाद अहमद खान, 21 हजार 577 वोट लेकर तीसरा स्थान हासिल किया था।
  • 2020 के विधानसभा चुनाव में यहां महागठबंधन और एनडीए के बीच मुकाबला होगा लेकिन जीत तो उसी पार्टी के कैंडिडेट को मिलेगी जिस पर जनता ज्यादा से ज्यादा भरोसा करेगी