जेईई-मेंस के बाद नीट परीक्षा कराने की तैयारी तेजी

इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए जेईई-मेंस कराने के बाद राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) ने 13 सितंबर को होने वाली नीट परीक्षा के लिए तैयारियां तेज कर दी हैं, जिसमें 15 लाख से अधिक विद्यार्थियों ने पंजीकरण कराया है।

इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई-मेंस) एक सितंबर को शुरू हुई थी और रविवार को यह संपन्न हो गई।

कोविड-19 महामारी के कारण दो बार स्थगित करने के बाद यह अहम परीक्षा सितंबर में कराई जा रही है। एनटीए के अधिकारियों के मुताबिक जेईई-मेंस में कंप्यूटर आधारित परीक्षा के विपरीत पांरपरिक रूप से कागज और कलम से होने वाली नीट के लिए देशभर में 15.97 लाख विद्यार्थियों ने पंजीकरण कराया है।

सामाजिक दूरी का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए एनटीए ने राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या 2,546 से बढ़ाकर 3,843 कर दी है। वहीं प्रत्येक कक्षा में पूर्व में 24 के स्थान पर केवल 12 विद्यार्थियों के ही बैठने की व्यवस्था की जाएगी। एनटीए के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए विद्यार्थियों को परीक्षा कक्ष में अलग-अलग समय पर प्रवेश कराया जाएगा और इसी प्रकार निकासी होगी। परीक्षा केंद्रों के बाहर इंतजार के दौरान विद्यार्थियों को समाजिक दूरी के साथ खड़े होने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की गई है।’ उन्होंने कहा, ‘विद्यार्थियों के लिए परामर्श जारी किया गया है, जिसमें सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए क्या करें और क्या नहीं करें की जानकारी दी गई है। हमने राज्य सरकारों को स्थानीय स्तर पर विद्यार्थियों की आवाजाही में मदद करने के लिए पत्र लिखा है ताकि वे समय से परीक्षा केंद्र पहुंच सकें।’ परीक्षा केंद्र के प्रवेश द्वारा पर और कक्ष में सेनिटाइजर की व्यवस्था, बार कोड के जरिये प्रवेश पत्र की जांच , परीक्षा केंद्रों की संख्या में वृद्धि, एक-एक सीट छोड़कर बैठने की व्यवस्था, एक कमरे में कम छात्रों के बैठने की सुविधा और अलग-अलग समय पर प्रवेश और निकासी जैसे कुछ उपाय हैं जो एनटीए ने छात्रों की सुरक्षा के लिए किये हैं।