फंस गए खुद केजरीवाल

आर.बी.एल.निगम

RBL Nigamएक कहावत है “गए थे नमाज़ पढ़ने रोज़े गले पड़ गए” जो चरितार्थ हो गयी आम आदमी पार्टी के संयोजक एवं दिल्ली के मुख्य्मंत्री अरविन्द केजरीवाल पर। चले थे ऑगस्टा घोटाले से जनता का ध्यान हटाने, ताकि उनकी कांग्रेस की छवि ख़राब न होने पाए। चिल्लाना शुरू कर दिया “प्रधानमंत्री की डिग्री फ़र्ज़ी है ,जेल जायेंगे ” आदि  आदि। उनकी लाड़ली मीडिया भी लग गयी ताल ठोक सुर मिलाने। हुआ क्या, खोदा पहाड़ निकली चूहिया वो भी मरी हुई। डिग्री सार्वजनिक होने पर बोले “ये भी फ़र्ज़ी हैं।” अमित शाह और अरुण जेटली ने आँखों में धूल झोंकी है ; पता नहीं और क्या क्या अनाप शनाप बातें की प्रैस कांफ्रेंस में।

नरेन्द्र मोदी डिग्री विवाद वर्तमान में देश में सबसे बड़ा मुद्दा बन चूका है.. अगस्ता स्कैम से भी अधिक कवरेज इसको मिली है.. आम आदमी पार्टी के नेता आये दिन इस सम्बन्ध में बयानबाजी करते नज़र आ रहे हैं.. आये दिन नयी नयी ड्रामेबाजी करने वाले रायता मैन यानी अरविन्द केजरीवाल प्रधानमंत्री की डिग्री के बाद अब अपने डाक्यूमेंट्स को लेकर खुद चारों ओर से घिर गए हैं. मतलब ऊंट अब खुद पहाड़ के नीचे आ गया है. जी हाँ! अरविन्द केजरीवाल जो अभी तक मोदी जी की डिग्रीको नकली बता रहे थे. नीचे देखिये अरविन्द केजरीवाल की आम आदमी पार्टी का ट्वीट जिसमे वो मोदी की डिग्री पर झूठ बोल रहे हैं.

AAP-Kejriwal-namaj अब मोदी जी की degree को खुद दिल्ली यूनिवर्सिटी भी असली मान चुकी है. लेकिन अब फंस गए हैं बेचारे केजरीवाल, कैसे? मोदी पर fake degree का इलज़ाम लगाने वाले केजरीवाल के documents की  कॉपी. इसमें उनके पैन कार्ड पर नाम लिखा है  Arvind Kumar Kejriwal और वहीँ उसके नीचे दिए गए documents में उनका नाम है लिखा है  Arvind Kejriwal.

AAP-Kejriwal-namaj1

केजरीवाल के पैन कार्ड की कॉपी

pan-card-kejriwal

केजरीवाल के डॉक्यूमेंट की कॉपी

तो अब आप खुद ही जान गये होंगे की क्यूँ केजरीवाल के पास इन documents में गड़बड़ी पर कोई जवाब नहीं है. अब क्यूँ केजरीवाल की बोलती है बंद.

हम मानते है हर इंसान के वोटर id से लेकर आधार कार्ड तक सबमें नाम अलग होता है लेकिन क्या ये मुद्दा इतना बड़ा बनाना चाहिए था ? मीडिया से लेकर केजरीवाल तक इसके दोषी है जो महत्वपूर्ण मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए इस तरह की बयानबाजी करते है !

तूफानी भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने आम आदमी पार्टी सुप्रीमो और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक साक्षात्कार में ‘नक्सली’ आतंकवादी बता दियाl लेकिन उन्होंने ऐसा क्यों कहा?? देखिये 30 सेकंड की इस विडियो में…

namaj-vdo-link

This video exposes Arvind Kejriwal and Punya Prasun Bajpai and their relations as Political Leader and Media. You can clearly see in the video that how some points are over highlighted and exaggerated in media and how everything is fixed in the news we see.
Watch the video here:

केजरीवाल का leaked ऑडियो क्लिप जिसमे उन्होंने अपने नेता को दीं गन्दी गालियाँ…

इस ताज़े घोटाले ने उड़ाई केजरीवाल की नींद…

namaj+ghotale-arvindआरटीआई से यह भी खुलासा हुआ कि विभिन्न परीक्षाओं और कार्यक्रमों के लिए दिल्ली सरकार ने करीब 95 से भी ज्यादा स्थानों पर सीसीटीवी 2012 से जनवरी 2016 तक 4258 सीसीटीवी कैमरे किराए से लगवाए थे।

दो दिन हुई इंडो अफ्रीकन समिट में सबसे ज्यादा 490 कैमरे आतंकियों की निगरानी के लिए गए थे।

8 करोड़ 89 लाख रुपये खर्च करके 4258 सीसीटीवी लगाए गए। यानी एक सीसीटीवी का किराया करीब 21 हजार रुपये पड़ा। इनमें एक दिन से लेकर तीन माह तक के लिए सीसीटीवी लगाए गए थे।

400 करोड़ रुपये के टैंकर माफिया के मुद्दे पर अब तक चुप हैं केजरीवाल। जबकि उनकी सरकार में मंत्री ने चिठ्ठी लिखकर उन्हें दोषियों को दण्ड देने की सिफारिश की थी।

दिल्ली सरकार के मंत्री कपिल मिश्रा के 9 महीने पहले केजरीवाल को पीने के पानी की आड़ में चल रहे 400 करोड़ रूपये के गोरखधंधे के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए चिठ्ठी लिखी थी। पर केजरीवाल ने इस मामले में आज तक कोई कार्यवाही नहीं की है।

उप-राज्यपाल श्री नजीब जंग जी से मिलकर इस संगीन मामले में कार्यवाही कर दोषियों को दण्ड देने की प्रार्थना की किराए पर सीसीटीवी का इस्तेमाल हो रहा है।