सुब्रमनियम स्वामी ने कांग्रेस को धोया,आनंद शर्मा ने आपा खोया

आर.बी.एल.निगम

RBL Nigamअप्रैल 4 को  राज्य सभा में बीजेपी सांसद सुब्रमनियम स्वामी ने फिर से अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले की चर्चा में भाग लिया और फिर से कांग्रेस की नाक में दम कर दिया। उन्होंने शुरू से लेकर अंत तक डील के सभी घटनाक्रमों का जिक्र किया और साबित कर दिया कि डील में कई जगह पर नियमों की अनदेखी की गयी और ऐसा सिचुएशन पैदा करने की कोशिश की गयी कि केवल अगस्ता वेस्टलैंड ही सभी पैमानों पर खरा उतर सके और ऐसा ही हुआ और अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी को ही सौदे के लिए फाइनल किया गया।

n10101mainसुब्रमनियम स्वामी ने आज कांग्रेस सरकार को एक्सपोज करने का प्रयास किया और चार सौ बीसी का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने केवल अगस्ता वेस्टलैंड को सौदे के लिए फिक्स करने के लिए एनडीए सरकार द्वारा तय किये गए पैमाने में बदलाव कर दिया और हेलीकाप्टर का टेस्ट भी दूसरे देश में किया और जिस अगस्ता वेस्टलैंड की जगह पर दूसरे हेलीकाप्टर का टेस्ट किया गया। कांग्रेस सरकार ने उंचाई पर उड़ने के दायरे को 6000 किलोमीटर से घटाकर 4000 किलोमीटर कर दिया जबकि उंचाई को 1.46 से बढाकर 1.87 मीटर कर दिया ताकि इस पैमाने पर केवल अगस्ता वेस्टलैंड ही पास हो सके। उन्होंने कहा कि विश्व में सभी VVIP हेलीकॉप्टरों की औसत उंचाई 1.70 मीटर होती है जबकि अगस्ता वेस्टलैंड की ही उंचाई 1.80 से ऊपर है। उन्होंने कहा कि ऐसा जान बूझकर किया गया ताकि दूसरी कम्पनियाँ डील से बाहर हो जाँय और केवल अगस्ता वेस्टलैंड ही डील में रह सके।

n10101-3उन्होंने आज फिर से मिशेल का पत्र और इटली की कोर्ट के आदेश का जिक्र करते हुए अहमद पटेल और सोनिया गाँधी का नाम लिया जिसके बाद कांग्रेस सांसदों ने जमकर हंगामा किया। इस पर सुब्रमनियम स्वामी ने कहा कि उन्होंने केवल इटली के कोर्ट आर्डर को पढ़ा है, बाद में कांग्रेस सांसदों की मांग पर उन्होंने दस्तावेजों को वेरीफाई भी किया।

चूंकि सुब्रमनियम स्वामी ने अपने भाषण में अहमद पटेल और उनकी बॉस यानी सोनिया गाँधी का नाम लिया था और पूरा देश उनके भाषण को देखा रहा था इसलिए आनंद शर्मा अपना अपा खो बैठे और सुब्रमनियम स्वामी को बहुत बुरा भला कहा। उन्होंने स्वामी को मानसिक रूम से बीमार बताया।

n10101-1कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने बीजेपी से साफ़ साफ़ कहा कि तुम राज्य सभा में जो नया तोहफा लाये हो वह तुम्हें भी मंहगा पड़ेगा और तुम भी बहुत पछताओगे। उन्होंने कहा कि मै अगली बार इसी राज्य सभा में ‘नए तोहफे’ ने आरएसएस, संघ और अटल बिहारी के बारे में जो कुछ भी कहा है, यहीं पर खड़े होकर बताऊंगा और आपसे जवाब मांगूंगा। कांग्रेस नेता ने नए तोहफे के रूप में सुब्रमनियम स्वामी पर निशाना साध रहे थे।

उनकी बाद का जवाब मुख्तार अब्बास नकवी ने दिया। उन्होंने हँसते हुए कहा कि देखते हैं कि स्वामी आपको अधिक भारी पड़ते हैं या हमें। अभी तो यही लग रहा है कि स्वामी जी आपको भारी पड़ने वाले हैं।

3600 करोड़ रुपए के अगस्ता वेस्टलैंड डील के मुद्दे पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने  को संसद में कहा कि देश जानना चाहता है कि घूस किसने ली? डील में एक ही वेंडर का नाम क्यों रखा गया?कांग्रेस कुतर्कों से झूठ को सच साबित करने में लगी है। डील में नियमों की अनदेखी हुई। हम कोई बदले की भावना से नहीं बोल रहे हैं। उधर, सुब्रमण्यम स्वामी ने राज्यसभा में बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल का खत पढ़ा। खत में सोनिया गांधी का नाम लिया गया है।

n10101खत में सोनिया को ड्राइविंग फोर्स बताया गया है। स्वामी ने कहा कि वे इसकी सत्यता साबित करने को तैयार हैं। कांग्रेस की तरफ से आरोपों का सामना करते हुए पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा कि हम जेपीसी के लिए तैयार हैं। कीजिए भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई। कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी ने शायरी बोलकर सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा- शाखों से टूट जाएं, वो पत्ते नहीं हैं हम,आंधियों से कह दो अपनी औकात में रहें।

स्वामी ने राज्यसभा में बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल का खत पढ़ा। खत में सोनिया गांधी का नाम लिया गया है। खत में सोनिया को ड्राइविंग फोर्स बताया गया है। स्वामी ने कहा कि वे इसकी सत्यता साबित करने को तैयार हैं। कांग्रेस की तरफ से आरोपों का सामना करते हुए पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा कि हम जेपीसी के लिए तैयार हैं। कीजिए भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई। कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी ने शायरी बोलकर सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा- शाखों से टूट जाएं, वो पत्ते नहीं हैं हम,आंधियों से कह दो अपनी औकात में रहें।

6 गुना ज्यादा पर डील

स्वामी ने पूछा किसके कहने पर एंटनी ने सलाह नहीं मानी? क्या मनमोहन सिंह ने आदेश दिए थे?। डील 6 गुना ज्यादा दाम पर तय हुई। 793 करोड़ की डील एंटनी ने फाइनल की। बाद में डील 4877.5 करोड़ की हुई।

पर्रिकर ने कैग रिपोर्ट के आधार पर कहा…..

-मार्च 2005 के बाद से एक ही कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए सौदे की शर्तें बदली गईं। यूपीए 1 में केबिन हाइट की शर्तें बदलीं। इस समय सौदे पर 11 से केवल 6 कंपनी रह गईं। फिर शर्तों में एक बार और बदलाव हुआ और अगस्ता ही अकेली कंपनी रह गई।

-दूसरे हेलीकॉप्टर पर ट्रायल हुआ जबकि सप्लाई किए जाने वाले हेलीकॉप्टर का ही ट्रायल होना था।

-8 हेलीकॉप्टर खरीदे जाने थे पर डील 12 की कर ली गई।

एंटनी ने दिया पर्रिकर को जवाब
-यूपीए 1 के कार्यकाल में प्री कान्ट्रैक्ट इंटीग्रिटी पैक्ट हम लेकर आए। पहली छह कंपनियों को ब्लैकलिस्ट करने का काम किया।
-8 से 12 हेलीकॉप्टर खरीदने का निर्णय इसलिए बदला गया ताकि चार डिफेंस के काम के लिए प्रयोग में लाए जा सकें। 8 वीआईपी के लिए प्रयोग में लाए जाने थे।

हेलीकॉप्टर की ऊंचाई कम करने का निर्णय एनडीए के कार्यकाल में पीएमओ ने लिया। इसी समय 6000 से 4000 फीट की ऊंचाई की गई।

n10101-2आखिरकार वो कौन था जिसने हेलीकाप्टर सौदे की जांच नहीं होने दी – पर्रिकर राज्य सभा में विवादास्पद अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर खरीद के सौदे पर बुरी तरह घिरी कांग्रेस – उम्मीद के मुताबिक अन्य विपक्षी दलों ने भी सदन में नहीं दिया साथ जब2012 में ही हेलीकाप्टर की खरीद में दलाली की बात सरकार के संज्ञान में आ गयी थी तो वो कौन सी शक्ति थी जिसने हेलीकाप्टर सौदे की जांच नहीं होने दी। यह बात रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने राज्य सभा में विवादास्पद अगस्ता वेस्टलैंड सौदे को लेकर हो रही चर्चा में कहा। रक्षा मंत्री ने पूर्ववर्ती संप्रग सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा करायी जा रही जांच में उन सभी बिंदुओं पर भी ध्यान केन्द्रित होगा जिनके नाम इटली की अदालत के फैसले में आये है। इसके साथ ही उन्होंने इस बात का भी संकेत दिया कि उस अदृश्य शक्ति की भूमिका का भी पता लगाया जायेगा जिसने पूर्व में इस मामले की समुचित जांच को प्रभावित किया था।

रक्षा मंत्री ने सदन में इस मामले का तिथिवार आधिकारिक ब्यौरा देते हुए कहा कि सीबीआई ने 12 मार्च 2013 को इस मामले में एक मामला दर्ज किया था किन्तु उसने नौ माह तक इसकी प्राथमिकी की प्रति प्रवर्तन निदेशालय को नहीं दी थी और उसके बाद ईडी ने जुलाई तक इस प्राथमिकी पर कोई कार्रवाई नहीं की थी।

रक्षा मंत्री ने सदन में गुलमर्ग एवं श्रीनगर में हेलीकाप्टरों की परीक्षण उड़ानें के बारे में भारतीय वायु सेना की लिखित कमियों वाली टिप्पणियों को भी पढ़  कर सुनाया था उक्त फाइल का उल्लेख करते हुए कहा रक्षा मंत्री ने इस बात का भी उल्लेख किया कि सौभाग्य से यह तीन जून 2014 की विनाशकारी आग से बच गई थी क्योकि यह खुले में होने की बजाय एक अधिकारी की दराज में रखी थी।रक्षा मंत्री ने पूर्ववर्ती सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि संप्रग सरकार ने कंपनी के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय विदेश मंत्रालय, दूतावास एवं अदालत को लिखा और सौदे को रद्द करने में करीब दो वर्ष लगा दिए थे।

n10101-4रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर सदन में यूपीए सरकार की नियत पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सरकार ने हेलीकाप्टरों की सौदेबाज़ी करते हुए भी बढ़े हुए मूल्यों पर लाया गया तथा मूल्य सौदेबाजी के लिए कोई वास्तविक आधार भी नहीं मुहैया कराया गया। उन्होंने यहाँ तक आरोप लगाया कि आफसेटस के लिए चयनित कंपनियों में से एक आई डी एस इंफोटेक का इस्तेमाल रिश्वत का धन देने के लिए एक माध्यम के तौर पर किया गया था।

रक्षा मंत्री ने एक सदस्य के द्वारा जाँच के विषय में पूंछे जाने पर जवाब देते हुए कहा कि जांच जारी हैं और सरकार घोटाले में शामिल लोगों को कानून के दायरे में लाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोडे़गी। उन्होंने सदन को बताया कि सीबीआई ने इस मामले में काफी जांच कर ली है और वह फिलहाल रिश्वत का धन कहां कहां गया इसका पता लगाने की कोशिश कर रही है। संसदीय कार्य मंत्री एम वेंकैया नायडू ने इस पूरे मामले की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में जांच कराये जाने की कांग्रेस की मांग को खारिज कर दिया जिसके विरोध में कांग्रेस ने सदन से वाकआउट किया।