27 साल बाद कश्मीर में बंद पड़े मन्दिर खुलने का श्रीगणेश

आर.बी.एल.निगम

RBL Nigamमोदी विरोधी प्रचार में व्यस्त हैं कि “मोदी फेंकू है “; “मोदी ने कुछ नहीं किया ” ;”मोदी तो बस विदेशों में घूमकर देश का पैसा व्यर्थ कर रहा है”; “अभी तक काला धन भारत नहीं आया” आदि आदि और उनके इशारों पर नाच रहे कुछ पत्रकार इन भ्रमित करने वाली बातों को किसी न किसी रूप में बल दे रहे हैं। लेकिन अभी तक किसी छद्दम नेता ने कश्मीर में हो रहे मोदी प्रभाव को प्रकाश में लाने का प्रयास तक नहीं किया। चैनलों को डर है कि कहीं कश्मीर में आ रहे बदलाव को प्रसारित करने से उनकी टीआरपी प्रभावित न हो जाये।

adu5bh5qबेहद संवेदनशील रैनावाड़ी स्थित प्राचीन हिन्दू मंदिर में एक बार फिर भक्तो के भीड़ उमड़ पड़ी है, जो पिछले 27 सालो से बंद पड़ा था! कश्मीरी पंडितो का गढ़ माने जाने वाला इलाका रैनावाड़ी में आतंकवादी गतिविधियाँ बढ़ जाने की वजह से इस मंदिर को बंद कर दिया गया था, कश्मीरी पंडितो की भूतय संख्या की वजह से ये इलाका हमेशा से आतंवादियो के निशाने पर रहा है और संवेदशील इलाको में से एक है ! मंदिर के दोबारा खोले जाने से वहां के स्थानीय लोग काफी खुश है और इस मौके पर विशेष पूजा अर्चना भी की गयी !

1990 में मंदिर को बंद कर दिया गया था

आजतक के हवाले से मिली खबरों के मुताबिक मंदिर के आस-पास साधु संतो की भीड़ से माहौल भक्तिमय हो गया है, 27 सालो बाद एक बार फिर कश्मीरी पंडितो में अपने धर्म के प्रति आस्था और विश्वास और मजबूत होगा, दरअसल 1990 में यहाँ के कश्मीरी पंडितो को जम्मू और देश के दूसरे इलाको में विस्थापित कर दिया गया था और इस मंदिर को बंद कर दिया गया था !

लंबी लड़ाई के बाद कश्मीरी पंडितों ने एक बार फिर मंदिर को खुलवाया

90 के दशक में रैनावाड़ी से कश्मीरी पंडितो के पलायन के बाद इसे बंद पड़ा देखकर गलत तरीके से मंदिर के जमीन को एक स्थानीय संस्था ने बिल्डर को दे दिया गया था, जिसके पता चलते ही कश्मीरी पंडितो ने कड़ा विरोध करते हुए केस फाइल किया और आखिकार उनकी जीत हुई, और मंदिर का द्वार श्रद्धालुयों के लिए एक बार फिर खोल दिया गया, कशमीरी पंडितो की मने तो ये मंदिर काफी प्राचीन है, फिलहाल मंदिर की देखभाल स्थानीय लोग कर रहे है !

भैरव की विशेष पूजा होती है

एक कश्मीरी पंडित ने बताया कि जब कश्मीर में सबकुछ ठीक था तब इस मंदिर में अमरनाथ यात्रा के दौरान लंगर बांटा जाता था, भगवन भैरव के जन्म दिवस पर इस मंदिर में खास आयोजन किया जाता था, देश के कोने-कोने से श्रद्धालु यहाँ आते थे और कुछ विदेशी भक्त भी इस मंदिर के दर्शन को पहुंचते थे ! कश्मीरी पंडित संघर्ष समिति के मुताबिक 1990 से पहले कश्मीर में 583 मंदिर थे जिसमे से कइयों को आतंकवादियों ने तोड़ दिए !

आज जब कश्मीर में बंद पड़े मन्दिर खुलने का श्रीगणेश हो चूका है, वह दिन भी अब दूर नहीं जब अपने ही देश में शरणार्थी बने कश्मीरी पंडितों की घर वापसी का मार्ग भी खुल जायेगा। जो छद्दम धर्म-निरपेक्षों की रातों की नींद हराम कर रही है। स्पष्ट है, जिस तरह आज मोदी सरकार कार्यरत है तुष्टिकरण नीति भी शनैः शनैः कब्र की ओर जा रही है।


Add-top-today