आज राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का उद्घाटन

आपदा मित्र योजना का शुभारम्भ

  • केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit shah) ने आज राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के 17वें स्थापना दिवस का उद्घाटन किया.
  • इस साल स्थापना दिवस का विषय ‘हिमालयी क्षेत्र में आपदा की घटनाओं के व्यापक प्रभाव’ है. 
  • इस मौके पर गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, NDRF और SDRF ने 17 सालों में देश के आपदा प्रबंधन के इतिहास को बदलने का काम किया और पूरे देश की संवेदनशीलता आपदा प्रबंधन के साथ जोड़ने का काम किया है.

आपदा घटनाओं के व्यापक प्रभावों पर चर्चा

  • इस कार्यक्रम में हिमालयी क्षेत्र में भूस्खलन, बादल फटने, भूकंप और हिमनद झील के प्रकोप वाली बाढ़ (ग्लेशियल लेक आउटबर्स्ट फ्लड) सहित आपदा घटनाओं के व्यापक प्रभावों पर चर्चा हुई.
  • मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में NDMA, भारत में आपदा प्रबंधन के लिए सर्वोच्च निकाय है. एनडीएमए को आपदा प्रबंधन के लिए नीतियां, योजनाएं और दिशानिर्देश निर्धारित करना अनिवार्य है.
  • अमित शाह ने ‘आपदा मित्र योजना’ की शुरुआत की और कहा कि इस शुरुआत से बाढ़ ग्रस्त इलाकों में फंसे लोगों को सेकंडों में मदद मिल सकेगी.
  • उन्होंने आपदा मित्र कॉन्सेप्ट का जिक्र करते हुए कहा कि अगर किसी भी क्षेत्र में आए आपदा पर जल्दी रिस्पोंड करना है तो ये जनता ही कर सकती है, गांव-गांव में आपदा मित्र ही कर सकते हैं.
  • आपदा मित्र का कॉन्सेप्ट बहुत अच्छा है, जनता को आपदा के लिए तैयार करना ज़रूरी है. अमितशाह ने आगे कहा, ‘आपदा मित्र को 25 राज्यों में 30 बाढ़ ग्रस्त ज़िलों में प्रयोगात्मक तौर पर शुरू किया गया है.
  • 5500 आपदा मित्रों को और आपदा सखियों को इसमें जोड़ा गया है. अब हम आपदा से प्रभावित होने वाले 350 ज़िलों में आपदा मित्र योजना को लागू करने जा रहे हैं.’