मनरेगा के कार्यों हेतु जांच टीमों का गठन

चम्पावत। जिलाधिकारी डा.अहमद इकबाल ने वर्ष 2015-16, 2016-17 तथा वर्ष 2017-18 में विकासखंड बाराकोट के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा से हुए कार्याे की जांच हेतु टीमों का गठन कर दिया गया है।

उक्त जानकारी देते हुए खंड विकास अधिकारी बाराकोट पूरन सिंह रावत ने बताया कि बाराकोट में आयोजित तहसील दिवस में जिलाधिकारी ने ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा से निर्मित कार्यो, उनकी लागत, गुणवत्ता, औचित्य, उपयोगिता आदि की जांच हेतु टीमों का गठन कर तीन दिन के अन्दर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये थे। उन्होंने बताया कि जांच तहसील दिवस की समाप्ति से ही प्रारम्भ करने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिये हैं।

उन्होंने बताया कि खोलासुनार में हुए कार्यो की जांच हेतु सहायक निबंधक सहकारी समितियां पीएस राणा एवं जिला उद्यान अधिकारी एनके आर्या, ग्राम पम्दा हेतु जिला क्रीड़ाधिकारी आरएस धामी एवं अधिशासी अभियंता जल निगम एचसी भारती, झिरकुनी हेतु जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कर्नल (रि) बीएस थापा एवं अधिशासी अभियंता जल संस्थान अशोक कुमार, गुमौद हेतु कृषि एवं भूमि संरक्षण अधिकारी तथा सहायक अभियंता लघु सिंचाई, मल्ला बापरू हेतु जिला सेवायोजन अधिकारी एवं सहायक अभियंता लघु सिंचाई, बाराकोट हेतु पर्यटन अधिकारी तथा कनिष्ठ अभियंता जल संस्थान, कांकड़ खतेड़ी हेतु मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं एसडीओ विद्युत, मल्लागांव हेतु जिला विकास अधिकारी एवं जिला पूर्ति अधिकारी, फरनोला हेतु अधिशासी अभियंता ग्रामीण निर्माण विभाग तथा तड़ाग हेतु समाज कल्याण अधिकारी को नामित किया गया है।

उन्होंने कहा कि उक्त जांच के बाद अन्य ग्राम पंचायतों में वर्ष 2015-16, 2016-17 तथा वर्ष 2017-18 के अन्तर्गत हुए कार्यो की भी रैण्डम जांच की जायेगी। उन्होंने बताया कि जांच में योजना की गुणवत्ता, कार्यो का औचित्य, उपयोगिता, लाभ प्राप्त करने वालों की संख्या आदि का भी जांच रिपोर्ट में उल्लेख करने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिये हैं। उन्होंने बताया कि मुख्य विकास अधिकारी एसएस बिष्ट के नेतृत्व में अन्य विकासखंडों में भी वर्ष 2015-16, 2016-17 तथा वर्ष 2017-18 में मनरेगा के अन्तर्गत हुए कार्यो की रैण्डमली जांच की जायेगी।

Leave a Reply