मैंने देश को कभी अंधेरे में नहीं रखा, गलतफहमी में नहीं रखा है : नरेंद्र मोदी

RBL Nigamआर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार

नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी को लेकर एकबार फिर बयान दिया है।नवम्बर 13  को उन्होंने गोवा में एक प्रोग्राम के दौरान कहा, ”सरकार बनाते ही मैंने कालाधन पर कदम उठाया था। मेरी कैबेनिट के पहले दिन ही मैंने एसआईटी गठित की। मैंने देश को कभी अंधेरे में नहीं रखा। गलतफहमी में नहीं रखा है। खुलकर ईमानदारी से बात कही। और सबको पता था कि इस फैसले से लोगों को तकलीफ होगी।” मोदी बोले- मैं कुर्सी के लिए पैदा नहीं हुआ हूं, देश के लिए सबकुछ छोड़ा…

– मोदी ने कहा, ”70 साल की बीमारी 17 महीने में मिटानी है।”
– ”हमने एक और काम किया सोने खरीदने पर एक्साइज ड्यूटी नहीं लगती। पहले कम लगती थी। ज्वैलर्स की संख्या कम है। बड़े शहरों में 50 होंगे”
– ”मैंने घर, परिवार, सबकुछ देश के लिए छोड़ा है। मैं कुर्सी के लिए पैदा नहीं हुआ। (यहां मोदी थोड़ा भावुक हो गए)
मोदी ने कहा- करप्शन के खिलाफ काम करने के नाम पर ही बनी थी सरकार
– मोदी ने कहा, ”आपको पता था क्या, सबको मालूम था कि ये सरकार बनने के तुरंत बाद हमने एक सुप्रीम कोर्ट से रिटायर्ड जज के नेतृत्व में SIT बनाई।”
– ”दुनिया में कहां-कहां ब्लैकमनी का काम चल रहा है, इसकी जांच हो रही है।”
– ”पहले वाली सरकारें टाल रही थीं.. हमने किया। पुत्र के पांव पालने में.. जब पहले दिन ऐसा निर्णय लिया तो पता नहीं था कि आगे मैं  क्या करने वाला हूं।”
– ”कुछ नहीं छिपाया, देश को गलतफहमी में नहीं रखा खुलकर बात कही और ईमानदारी से।”
– ”दूसरा जरूरी काम था कि दुनिया के देशों के साथ 50-60 साल में ऐसे एग्रीमेंट हुए कि हम ऐसे बंध गए कि जानकारियां ही नहीं मिल पा रही थी।”

कालाधन लाने के लिए कई देशों से समझौता

– पीएम ने कहा, ”कुछ देशों के साथ नया एग्रीमेंट करें, अमेरिका को समझाने में सफल हुआ कि एग्रीमेंट करिए और आपकी बैंकों में किसी हिंदुस्तानी का पैसा है आता-जाता है तो हमें तुरंत पता चलना चाहिए”
– ”दुनिया के कई देशों के साथ काम किया है कई देशों विश्व के किसी भी देश में भारत से चोरी किया गया पैसा गया है, इसका प्रबंध पुरजोर प्रबंध किया है।”
मोदी ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि आप लोग मुझे केवल 30 दिसम्बर तक का वक्त दे दें, अगर तब तक आपकी सभी समस्या नहीं ख़त्म हुई, अगर उसके बाद भी आपको लाइन में लगना पड़ा तो आप मुझे जो भी सजा देंगे उसे मंजूर कर लूँगा और आपके सामने अपना सर झुका दूंगा।

मोदी ने कहा कि ये कालाधन और भ्रष्टाचार 70 साल की बीमारी का नतीजा है जिसे मुझे केवल 17 महीने में मिटानी है, उन्होंने कहा कि एक बार सफाई हो जाने जो, आप खुद देखते हैं कि जब साफ़ सफाई हो जाती है एक मच्छर भी दिखाई नहीं देते। इसी तरह से जब कालेधन की सफाई हो जाएगी तो छोटे मोटे चोर अपने आप ख़त्म हो जाएंगे।

अब बेनामी प्रॉपर्टी पर हमला

modi– मोदी ने कहा ”दिल्ली में किसी बाबू का गोवा में फ्लैट है। पैदा कहीं और हुआ दिल्ली में काम कर रहा है फ्लैट गोवा में है… किसके नाम है।”
– ” खुद के नाम नहीं खरीदते दूसरों के नाम खरीदते हैं। कानून बनाया कि जो बेनामी संपत्ति होगी, कानूनन हमला बोलने वाले।”
मैंने चोरों और बेईमानों को सँभलने का काफी मौका दिया, उन्हें अपनी बेनामी संपत्ति घोषित करने का भी मौका दिया, लेकिन जिन लोगों ने मेरी बात को गंभीरता से लिया उन्होंने अपनी संपत्ति की घोषणा कर दी और जुर्माना देकर बच गए लेकिन जिन लोगों ने मेरी बात को हलके में लिया और अपनी दुनिया में मस्त रहे उन्हें परेशानी हो रही है और दर्द से तड़प रहे हैं।
उन्होंने कहा, पुरानी सरकारों से मेरी तुलना न करते तो अच्छा होता। देश ने मुझे काले धन के खिलाफ काम करने के लिए कहा था। देश ने वोट भ्रष्टाचार के खिलाफ दिया था। काले धन पर सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एसआईटी बनाई। जो पहले वाली सरकारें टालती थी  वो हमने किया। मैंने कुछ नहीं छिपाया, देश को अंधेरे में नहीं रखा। देश को कभी धोखे में नहीं रखा। देश के सामने हमने खुलकर बात की। कालेधन के खिलाफ अमेरिका जैसे देशों का समर्थन मिला। बेनामी संपत्ति पर कानून तौर पर हमला किया। 2 लाख से ज्यादा का सोना खरीदने पर पैन जरूरी किया। 70 साल की बीमारी 17 महीने में मिटानी है। कुछ सांसदों ने मुझे सोना खरीद पर पैन नंबर के नियम के खिलाफ लिखा था। ज्वैलरी पर एक्साइज ड्यूटी लगाई तो मुझ पर दवाब था। मैं कुर्सी के लिए पैदा नहीं हुआ हूं। भाषण के दौरान भावुक हुए पीएम। उन्होंने कहा, मैने घर-परिवार सब कुछ देश के लिए छोड़ा है। कुछ लोगों को मजबूरी में बेईमानी करनी पड़ती है। बेईमानी करने वालों को सुधरने का वक्त दिया। 67 हजार करोड़ रुपये जुर्माना समेत जमा कराए गए। आज मैं दो साल के काम का हिसाब गोवा की धरती से दे रहा हूं। जन-धन बैंक अकाउंट का फायदा अब समझेंगे लोग। धीरे-धीरे देश की आर्थिक तबीयत सुधरने की दवा दी। जन-धन स्कीम आया तो लोगों ने मजाक उड़ाया। गरीबों ने जन-धन अकाउंट में 45 हजार करोड़ जमा कराये। हमनें बहुत बड़ी सर्जिकल स्ट्राइक की।
8 तारीख 8 बजे रात बड़ा कदम उठाया। 4 दिन से हजारों लोग पैसे के लिए कतार में हैं। बैंक के सभी कर्मचारियों का अभिनंदन करता हूं, उन्होंने एक हफ्ते में एक साल से ज्यादा काम किया। मैं बैंक के कर्मचारियों को सलाम करता हूं। बैंके के रिटायर कर्मचारी भी देश की सेवा कर रहे हैं। कतार में खड़े लोगों की मदद करने वाले युवाओं का अभिनंदन करता हूं। सफलता की वजह मेरा फैसला नहीं, सवा सौ करोड़ देशवासी है।  जिस दिन वोट डालते हैं उस दिन भी मुसिबत आती है। मैंने देश से सिर्फ 50 दिन मांगे हैं। मेरा इरादा गलत हो तो जो मर्जी हो मुझे सजा दें।
नौजवानों का भविष्य दांव पर लगा हुआ है। किसी को तकलीफ होती है तो पीड़ा मुझे भी होती है। आपने जैसा हिंदुस्तान चाहा वैसा हिंदुस्तान देने का वादा है। बुराइयों को पास से देखा है। यह कष्ट सिर्फ 50 दिनों के लिए है। देशवासियों की तकलीफ और मुसिबत समझता हूं। सफाई हो जाए तो छोटे मच्छर भी नजर नहीं आते। ईमानदार लोगों के भरोसे लड़ाई शुरू की है। गंगा में जो चवन्नी नहीं डालते थे वो नोट बहा रहे हैं। मां के बैंक खाते में रुपये जमा करा रहे हैं बेटे-बहू। देश में 2जी घोटाला, कोयला घोटाला हुआ। घोटाले करने वाले 4000 रुपये के लिए लाइन में खड़े हैं। आम जनता को मेरे फैसले से कोई तकलीफ नहीं होगी। नमक महंगा होने की अफवाह फैलाई गई। ईमानदार को कोई तलीफ नहीं है। जिसका काला धन लुटा, वो परेशान हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले दो साल में सवा लाख करोड़ रुपया खजाने में जमा हुआ है. देश में 20 करोड़ से ज्यादा गरीब लोगों के खाते खोले गए हैं. उन्होंने कहा कि देश की आर्थिक तबीयत सुधारने के लिए दवाई दी है. पहले आर्थिक सुधार के लिए धीरे-धीरे दवाई दे रहा था. पीएम मोदी ने कहा, मैंने घर परिवार सब देश के लिए छोड़ दिया. उन्होंने कहा कि मैंने सब कुछ देश के लिए किया, मैं कुछ लेकर नहीं जाऊंगा.

पीएम मोदी ने कहा कि देश की भलाई के लिए जनता कष्ट सहने को तैयार है. बैंककर्मी पिछले एक हफ्ते से दिनरात काम कर रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 10 महीने से इस योजना पर गोपनीय तरीके से काम हो रहा था. चोरी के पैसे का पता चले इसके लिए सरकार ने काम किया.

गोवा में पीएम मोदी ने दावा किया कि देश का युवा इस निर्णय को सफल बनाने में लगा है. पीएम मोदी ने कहा, 30 दिसंबर तक जनता मौका दे. उसके बाद मेरी गलती निकली तो हर सजा के लिए तैयार हूं. पीएम मोदी ने कहा कि ये लड़ाई ईमानदार लोगों का भरोसा जीतने के लिए है. ये तकलीफ सिर्फ 50 दिनों के लिए हैं. पीएम मोदी ने कहा कि गंगा में चवन्नी नहीं डालते थे, आज नोट बहा रहे हैं. बड़े-बड़े स्कैम करने वाले 4000 रुपये के लिए लाइन में लगे हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि कालाधन वाले अफवाह फैलाने में लगे हैं. लेकिन सरकार अभी शांत नहीं बैठेगी. देश की  आजादी के बाद से अब तक का कच्चा चिट्ठा खुलेगा. कालाधन वालों के पैसे बच नहीं पाएंगे. पीएम मोदी ने कहा, कालाधन के खिलाफ ये अंतिम फैसला नहीं. पीएम मोदी ने कहा कि जानता हूं कई ताकतें मेरे खिलाफ हैं, वो मुझे जिंदा नहीं छोड़ेंगे क्योंकि उनकी 70 साल की लूट खतरे में है. मैं तैयार हूं.

पीएम मोदी ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी इनडोर स्टेडियम में राज्य सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित  किया. पीएम मोदी की पिछले दो महीने में गोवा की यह दूसरी यात्रा है, वह इससे पहले अक्टूबर में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने यहां पहुंचे थे.
मोपा हवाईअड्डा गोवा का पहला नागरिक हवआईअड्डा है और इसे जीएमआर हवाईअड्डा प्राधिकरण ने तैयार किया है. पीएम मोदी गोवा के बाद पुणे जा सकते हैं जहां वह गन्ने की मूल्य सीरीज पर चार दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन और प्रदर्शनी का उद्घाटन करेंगे.
इससे पहले उन्होंने का, पीएम बनने के बाद गोवा में ही एक रात से ज्यादा रूका। गोवा के लोगों का अभिनंदन करता हूं। गोवा के लोगों की वजह से देश का मान बढ़ा। राजनीतिक अस्थिरता ने गोवा को बर्बाद किया। गोवा के लिए मनोहर पार्रिकर को अच्छे दोस्त गंवाने पड़े। मनोहर पार्रिकर ने गोवा के विकास और कल्याण के लिए राजनीति को स्थिरता दी। मीडिया हाउस ने भारत के छोटे राज्यों का सर्वे किया। जिसमें गोवा को छोटे राज्यों में नंबर 1 राज्य चुना। मेरे साथियों ने गोवा को चमकता सितारा बनाया। गोवा में 18 साल की 45 हजार लड़कियों को एक लाख रुपये दिये। मुझे पता है गरीब का बीमार होना कितना महंगा है। जो वाक्य 10 शब्दों में कहता हूं पर्रिकर एक शब्द में कहते हैं। गोवा में सरकारी योजनाओं का अंबार है। 3 लाख वार्षिक आय वालों को स्वास्थ्य बीमा का कवच दिया। वाजपेयी जी के वादों को पूरा करने का मौका मिला। एयरपोर्ट बनने से गोवा में टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा। एयरपोर्ट निर्माण कार्य में युवाओं को रोजगार मिलेगा। आज 21वीं सदी का वो गोवा देख रहा हूं जो डिजिटली ट्रेंड और यूथ ड्रिवन गोवा का शिलान्यास हो रहा है। गोवार भारत की सूरत बदलने का पावर स्टेशन है। जिएंगे अपने बलबूत और मरेंगे अपनो के लिए। सुरक्षा के लिए हर चीज बाहर से क्यों लानी पड़े। सुरक्षा से क्षेत्र से अहम कदम उठा रहे हैं। भाग्यशाली हूं कि मेरी टीम में अनेक रत्न हैं। उनमें से एक मेरे पास गोवा के मनोहर पर्रिकर हैं। पर्रिकर मेरी टीम का चमकता हुआ रत्न हैं। ओरओपी के लिए मनोहर पर्रिकर को शुक्रिया। ढाई साल से रक्षा मंत्रालय पर किसी ने उंगली नहीं उठाई। मनोहर पार्रिकर को मुझे देने के लिए गोवा का आभारी हूं।