भारत के लिए इमरजेंसी लोन जापान ने बढ़ाया

जापान ने कोरोना महामारी से लड़ने हेतु भारत के लिए इमरजेंसी लोन की सीमा को बढ़ा दिया है। जापान ने सोमवार को कहा कि उसने 50 अरब येन (करीब 34 अरब रुपये) का इमरजेंसी लोन बढ़ाया है। इस लोन पर सालाना 0.01 फीसदी का ब्याज लगेगा और यह 15 साल के लिए होगा। 

वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग के अतिरिक्त सचिव, सीएस महापात्रा और जापानी राजदूत सुजुकी सातोशी के बीच सोमवार को दिल्ली में कोविड-19 संकट से निपटने के लिए भारत के स्वास्थ्य क्षेत्र कार्यक्रम ऋण के लिए येन ऋण के प्रावधान से संबंधित नोटों का आदान-प्रदान किया गया।
 
नोटों के आदान-प्रदान के बाद भारत सीएस महापात्रा और जीका (जेआईसीए), नई दिल्ली के प्रमुख प्रतिनिधि काट्सुओ मात्सुमोतो ने इस कार्यक्रम के लिए ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए।

जापानी दूतावास द्वारा जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, ‘कोविड-19 संकट प्रतिक्रिया आपातकालीन सहायता ऋण’ कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की लड़ाई के लिए आवश्यक धन प्रदान करता है। यह वित्तीय सहायता भारत सरकार द्वारा स्वास्थ्य और चिकित्सा नीति के कार्यान्वयन का समर्थन करेगी, साथ ही आईसीयू और संक्रमण की रोकथाम और प्रबंधन सुविधाओं से लैस अस्पतालों के विकास को बढ़ावा देगी।

कोविड-19,सुजुकी सातोशी,(जेआईसीए),काट्सुओ मात्सुमोतो,