हावर्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक खास तरीके का वीडियो गेम विकसित किया

  • कोरोना मरीजों की जान बचाने में मददगार।
  • हावर्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक खास तरीके का वीडियो गेम विकसित किया।
  • गेम खिलाड़ियों को कोरोना की कुछ वैक्सीन दी जाएगी, जिसका इस्तेमाल कर उन्हें 99 से ज्यादा देशों में फैली महामारी से लोगों को बचाना होगा। 

अगर आप वीडियो गेम खेलने के शौकीन हैं तो आपका यह हुनर कोरोना मरीजों की जान बचाने में मददगार हो सकता है।

क्या फायदे

  • शोधकर्ताओं के मुताबिक, इस आभासी खेल के दौरान खिलाड़ी जो रणनीति अपनाएंगे, वैज्ञानिक उसकी समीक्षा करेंगे।
  • अगर उनकी ओर से अपनाई गई तकनीक कारगर नजर आई तो यही तकनीक दुनियाभर में टीकाकरण के समय लागू की जा सकेगी।
  • शोधकर्ताओं ने बताया कि इससे उन्हें ज्यादा से ज्यादा ऐसे तरीकों का पता चलेगा, जिससे कम से कम वैक्सीन में ज्यादा से ज्यादा कारगर तरीके से महामारी से निपटा जा सकेगा। 

इंफ्लुएंजा महामारी से सीख 

  • इस आभासी खेल को विकसित करने का विचार प्रोफेसर हाल ड्रैकस्मिथ व उनके दल को 2019 में आया जब वे माताओं और शिशुओं में इंफ्लूएंजा के टीकाकरण पर काम कर रहे थे।
  • वे बताते हैं कि जब कुछ महीनों बाद ही कोविड फैला तो उन्होंने तय किया कि इस तकनीक को इस वैक्सीन का नेटवर्क बनाने में भी इस्तेमाल किया जाए। 

टीका वितरण पर रणनीति बना सकेंगे 

  • प्रोफेसर ड्रेकस्मिथ कहते हैं कि कोरोना का पहला टीका आने के बाद उसकी खुराक पूरी दुनिया की आबादी के लिए उपलब्ध होने में लंबा वक्त लगेगा।
  • ऐसे में शुरूआती चरण के टीकाकरण के लिए हमें विशेष रणनीति की जरूरत होगी ताकि सबसे जरूरतमंद व्यक्ति को सही समय पर टीका उपलब्ध हो।
  • इस खेल के जरिए यही पता लगाया जा सकेगा कि सीमित मात्रा में उपलब्ध टीके से वैश्विक स्तर पर किस तरह काम हो सकता है।