COVID-19 के चलते चारधाम यात्रा लिए सरकार ने हरी झंडी दी , दर्शन को लेकर श्रद्धालुओं में उत्साह बरकरार

कोरोना संकट के चलते मई 2020 में उत्तराखंड की विश्वप्रसिद्ध चारधाम यात्रा शुरू नहीं हो सकी। आखिर में राष्ट्रीय स्तर पर यात्रा के लिए सरकार ने हरी झंडी दी है। तब भी पवित्र देवधामों के दर्शन को लेकर श्रद्धालुओं में उत्साह बरकरार है। असीम आस्था के चलते लोग यात्रा के पहले पड़ाव तीर्थनगरी ऋषिकेश पहुंचने लगे हैं।

सोमवार को भीलवाड़ा, राजस्थान से 29 सदस्यीय तीर्थयात्रियों का जत्था चारधाम यात्रा के प्रवेशद्वार ऋषिकेश पहुंचा। यहां उन्होंने स्थानीय टूर ऑपरेटर से संपर्क साधा और चारधाम की यात्रा करने की इच्छा जतायी।

टूर ऑपरेटर ने कोरोना को लेकर बनी गाइड लाइन का हवाला दिया, जिस पर जत्थे के मुखिया बरदी चंद ने बताया कि भीलवाड़ा, राजस्थान में कोरोना जांच करा चुके हैं। इसमें सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आयी है। तभी चारधाम यात्रा के लिए आगे बढ़े।

बरदी चंद ने बताया कि राजस्थान में अभी कई लोग देवधाम के दर्शन करने को लालायित हैं। संयुक्त यात्रा रोटेशन समिति ऋषिकेश से पहले कई बार संपर्क साधा, लेकिन यात्रा शुरू नहीं होने का जवाब मिलने से मायूस हुए।

अच्छी बात है कि सरकार ने यात्रा शुरू करने का निर्णय लिया है। मौसम ने साथ दिया तो राजस्थान से हजारों श्रद्धालु बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के दर्शन करने उत्तराखंड पहुंचेंगे।

भीलवाड़ा, राजस्थान से 29 लोग चारधाम यात्रा के लिए ऋषिकेश आए हैं। बस आदि की व्यवस्था कर ली गई है। यात्रा पर रवाना होने से 24 घंटे पहले सभी का एंटीजन रैपिड कोरोना टेस्ट कराया जाएगा। रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही आस्थापथ पर बढ़ेंगे।