Delhi High Court orders: परीक्षार्थियों को नहीं रोका जाएगा कंटेनमेंट जोन में बनाए गए केंद्रों पर जाने से

Delhi High Court orders : कि 4 अक्टूबर को आयोजित होने वाली सिविल सेवा (प्री) परीक्षा के लिए कंटेनमेंट जोन में बनाए गए केंद्रों पर जाने से परीक्षार्थियों को नहीं रोका जाएगा।

न्यायालय ने संघ लोक सेवा आयोग द्वारा रविवार को परीक्षा के आयोजन को ग्रीन सिग्नल देते हुए यह आदेश दिया।

  • न्यायमूर्ति प्रतिबा एम सिह की पीठ ने संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) को निर्देश दिया कि तत्काल इस संबंध में दिल्ली मुख्य सचिव व पुलिस आयुक्त को सूचित करें।
  • पीठ ने कहा कि सुनिश्चित किया जाए कि प्रवेश पत्र के साथ परीक्षा देने जा रहे किसी भी परीक्षार्थी को जाने से न रोका जाए, भले ही परीक्षा केंद्र कंटेनमेंट जोन में ही क्यों बनाया गया हो।
  • उच्च न्यायालय ने प्रतियोगी छात्रों की ओर से अधिवक्ता आशुतोष घडे द्वारा दाखिल याचिका का निपटारा करते हुए यह आदेश दिया।
  • याचिका में कहा गया था कि राजधानी में कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं।
  • याचिका में कहा गया है कि दिल्ली में कुल 71378 परीक्षार्थियों के लिए 150 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इस हिसाब से प्रत्येक केंद्र पर 475 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे।
  • कंटेनमेंट जोन में बनाए गए परीक्षा केंद्रों पर पहुंचने में भी परीक्षार्थियों को परेशानी होगी।
  • वहीं, यूपीएससी के अधिवक्ता ने पीठ को बताया कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि परीक्षार्थी को कोई समस्या नहीं हो।
  • उच्च न्यायालय ने सुनवाई के दौरान पूछा कि कंटेनमेंट जोन में कितने परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इस पर आयोग के वकील ने कहा कि इस बारे में उन्हें जानकारी लेनी होगी।