डोभरी हत्याकांड : बड़ा भाई निकला बलजीत का हत्यारा

-पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा

2_gggदेहरादून। थाना सहसपुर क्षेत्रान्तर्गत सोरना-डोभरी में हुए हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। बलजीत का हत्यारा उसका बड़ा भाई प्रदीप कुमार ही निकला। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

बलजीत पुत्र जुगलकिशोर की लाश जंगल में पेड़ के नीचे पड़ी मिली थी। सूचना पर थाना सहसपुर से एएसपी और थाना प्रभारी मंजूनाथ टीसी पुलिस फोर्स को लेकर तुरन्त मौके पर पहुंचे। जिसके बाद मृतक बलजीत का पंचनामा करा शव पोस्टमार्टम के लिये भेजा गया। घटनास्थल पर डॉग स्कवाड व फिल्ड यूनिट को बुलाया गया। घटना स्थल का निरीक्षण कर साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की गयी। इस सम्बन्ध में मृतक के भाई प्रदीप कुमार पुत्र की लिखित तहरीर के आधार पर थाना सहसपुर पर अज्ञात के खिलाफ धारा 302 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया। इसके बाद पुलिस ने संदिग्ध व्यक्तियों से पूछताछ की। पूछताछ में यह बात सामने आयी कि मृतक का बड़ा भाई प्रदीप कुमार उससे परेशान था। यही नहीं डॉग स्क्वाड के प्रशिक्षित डाँग के वादी के घर तक जाने से प्रदीप पर पुलिस का शक गहरा गया। जिस पर पुलिस ने गत रविवार को प्रदीप को पूछताछ हेतु थाना सहसपुर बुलाया। जिससे घटना के सम्बन्ध में गहनता से पूछताछ की गयी तो प्रदीप कुमार ने बताया कि मृतक बलजीत मेरा छोटा भाई था, वह कोई कार्य नहीं करता था। बलजीत शराब का आदी था, जिससे आयेदिन वह लोगों से लड़ाई-झगड़ा व गाली गलौज करता रहता था। यही नहीं पूर्व में कुकर्म के प्रयास में वह जेल भी जा चुका था।

प्रदीप के अनुसार 26 अप्रैल की रात को वह बिना बताये शाह आलम की शादी में गाँव में चला गया तथा रात को करीब साढ़े दस बजे घर आया तो बहुत नशे में था। प्रदीप कुमार ने उसे समझाया तो वह प्रदीप से बहस करने के बाद घर से कहीं चला गया। प्रदीप ने अपने भाई बलजीत की तलाश की तो वह उसे जंगल के किनारे मिला। जहाँ प्रदीप के उसे समझाने पर और घर चलने के लिये कहने पर मृतक बलजीत द्वारा प्रदीप के साथ गाली गलौज व मारपीट की गयी। इस पर मृतक के भाई प्रदीप को गुस्सा आ गया और उसने मृतक बलजीत को लातों से मारा। प्रदीप के अनुसार बलजीत के गुप्तांग पर लात लगने के कारण वह बेहोश हो गया, जिससे प्रदीप को लगा कि वह मर गया है, तो प्रदीप ने उसी की बैल्ट निकालकर उसका गला दबा दिया। गला दबाते समय बैल्ट टूट गयी तो प्रदीप ने टूटे हुए हिस्से को पेड़ की टहनी में बाँध दिया और अपने भाई बलजीत को पेड़ के नीचे डाल दिया। इसके बाद मृतक के भाई प्रदीप कुमार को गिरफ्तार किया गया। हत्याकांड का खुलासा एसएसपी ने पत्रकार वार्ता के दौरान किया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने इस केस का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को 2500 रुपये का ईनाम देने की घोषणा की है।