मसूरी विस क्षेत्र की समस्याओं को लेकर राज्यपाल से मिले जोशी

2_bbbदेहरादून। मसूरी विधायक गणेश जोशी ने सचिवालय में राज्यपाल डा. केके पाल से मसूरी विधानसभा क्षेत्र तमाम समस्याओं को लेकर मुलाकात की। जिसमें मुख्य रुप से मसूरी की पार्किग, मसूरी सिविल अस्पताल के भवन निर्माण, सरखेत आपदा के दौरान प्रभावित कार्यो के पुर्ननिर्माण कार्य हेतु धनराशि एवं वीरभूमि में शहीदों के द्वार निर्माण हैं।

विधायक जोशी ने अवगत कराया कि मेरी विधानसभा क्षेत्रान्र्तगत मसूरी के किक्रेंग में पार्किंग निर्माण का शिलान्यास 29 मार्च 2015 को तत्कालीन मुख्यमंत्री द्वारा किया गया था। मसूरी जैसे सुविख्यात पर्यटक स्थल में पार्किंग की नितान्त आवश्यकता को देखते हुए मेरे द्वारा कई बार धरना दिया गया किन्तु विभाग द्वारा आज तक पार्किंग निर्माण का कार्य प्रारम्भ नहीं किया गया है। कार्यदायी संस्था के रुप में कार्य कर रही लोक निर्माण विभाग द्वारा निर्माण कार्य को प्रारम्भ नहीं कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पर्यटन की दृष्टि से मसूरी की बहुमंजली पार्किंग के निर्माण कार्य को प्रारम्भ किये जाने हेतु सम्बन्धित को निर्देशित किया जाए। इसी प्रकार, मसूरी के गांधी चैक के पास सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मसूरी की बिल्डिंग का कार्य वर्ष 2010 में शिलान्यास करने के बाद प्रारम्भ कर दिया गया था। कार्यदायी संस्था के रुप में उŸार प्रदेश राजकीय निर्माण निगम द्वारा 6 वर्ष पूर्ण होने के बाद भी आज तक स्वास्थ्य केन्द्र का कार्य सम्पन्न नहीं किया गया है। जिससे मसूरी एवं आस-पास के क्षेत्र के लोगों को खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कहा कि इस गम्भीर समस्या के संदर्भ में मेरे द्वारा कई बार विभागीय अधिकारियों सहित शासन को लिखित रुप में अवगत कराये जाने के बाद भी आज तक कोई ठोस कार्यवाही नहीं हुई जिसकी वजह से कार्यदायी संस्था द्वारा निर्माण कार्य पूर्ण नहीं किया गया है।

विधायक जोशी ने अवगत कराया कि 16 अगस्त 2014 को मसूरी विधान सभा क्षेत्र के बांदल घाटी में भारी वर्षा के कारण आपदा आ गई थी जिसमें सरखेत सबसे अधिक प्रभावित हुआ था। आपदा का मंजर इस प्रकार था कि खेत, मकान, पुल, सड़के सब कुछ बह गये थे। ग्रामीणों के जीवन भर की कमाई चंद घंटो में बर्बाद हो गई थी। सरखेत के साथ-साथ फूलैत, सिल्ला, क्यारा, आदि गाँव भी प्रभावित हुए थे किन्तु शासन-प्रशासन द्वारा लोगो को मुआवजा तक नहीं दिया गया। यह कहा कि पी0एम0जी0एस0वाई0 विभाग द्वारा सरखेत क्षेत्र में सड़को एंव पुलों सहित पुश्तों के निर्माण के लिए लगभग 3 करोड़ से अधिक के प्रस्ताव शासन को भेजे गये, जिसमें शासन द्वारा मात्र 50 लाख रूपये देकर इतिश्री कर दी गई। मेरे द्वारा आपदा के एक वर्ष बाद विभागीय अधिकारियों के साथ बांदल घाटी में हो रहे कार्यो का निरीक्षण किया गया किन्तु धनराशि के अभाव में पुर्ननिर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो पाये थे। इसी प्रकार से, सिंचाई विभाग द्वारा भी उपरोक्त गांवों में निर्माण कार्यो के लिए लगभग 2 करोड़ के आगणन बनाये गये हैं और वर्ष 2012 में कार्लीगाड़ के पास बादल फटने से बाल्टी नदी के किनारे बसे गांवों जिसमें मझाड़ा एवं कार्लीगाड़ आते हैं, में विकास कार्यो के लिए लगभग 1 करोड़ के आगणन बनाये गये हैं। किन्तु शासन द्वारा कोई भी धनराशि अभी सम्बन्धित विभागों को नहीं दी गई। इस दौरान भारतीय जना पार्टी के मंडल अध्यक्ष पूनम नौटियाल, युवा कार्यकर्ता गौतम शर्मा उपस्थित रहे।