हाईटेंशन विद्युत लाइनों के टेंशन से मिलेगी मुक्ति

electricity-pollsदेहरादून। प्रदेशवासियों को हाईटेंशन विद्युत लाइनों के टेंशन से मुक्ति मिलेगी। आबादी के ऊपर से गुजर रही 109 हाईटेंशन विद्युत लाइनें शिफ्ट की जा रही हैं। उत्तराखंड पावर कार्पाेरेशन लिमिटेड (यूपीसीएल) ने संबंधित खंड कार्यालयों को शिफ्टिंग करने संबंधित दिशा-निर्देश भेज दिए हैं। इसमें एक करोड़ नौ लाख रुपये खर्च होंगे।

यूपीसीएल दावा करता है कि आबादी के ऊपर से हाइटेंशन लाइनें नहीं ले जाई जाती। अगर आसपास से लाइन जाती है तो उसकी दूरी काफी होती है। लेकिन, लोगों ने हाईटेंशन लाइनों को दरकिनार कर, उसके नीचे घर बना लिए हैं। प्रदेशभर से हाईटेंशन लाइन शिफ्ट करने की अर्जी यूपीसीएल को सालों से मिलती रहती हैं। इसके अलावा हाईटेंशन लाइनों से कई जानलेवा हादसे भी हो चुके हैं। इस पर यूपीसीएल ने नियम बनाया कि लाइन शिफ्टिंग के लिए 35-35 फीसद धनराशि सरकार व यूपीसीएल वहन करेगा।

जबकि, 30 फीसद धनराशि विधायक या सांसद निधि से ली जाएगी। यूपीसीएल में अर्जियों का तो अंबार है, लेकिन फिलहाल जिन लाइनों के लिए पैसा मिला, उन्हें शिफ्ट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। यूपीसीएल प्रवक्ता के अनुसार शिफ्ट होने वाली लाइनें 11 और 33 केवी की हैं। देहरादून खंड कार्यालय केंद्रीय अंतर्गत 8, देहरादून उत्तर में 16, देहरादून ग्रामीण में 34, हरिद्वार शहर 1, हरिद्वार ग्रामीण में 1, विकासनगर में 7, हल्द्वानी शहर में 1, हल्द्वानी ग्रामीण में 9, कोटद्वार में 27, टिहरी 1, उत्तरकाशी में 2 और रुड़की शहर अंतर्गत 2 हाईटेंशन विद्युत लाइनें शिफ्ट होंगी।