देवभूमि समाचार - Devbhoomi Samachar

कोरोना वायरस को जानबूझकर मानव शरीर में डाला जाएगा

रूस ने वैक्सीन बनाने का दावा किया है।

दुनियाभर में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इस घातक महामारी का अभी तक कोई टीका नहीं बनाया गया है, हालांकि रूस ने वैक्सीन बनाने का दावा किया है। दुनिया के कई देश कोरोना वैक्सीन बनाने में लगे हुए हैं। अब, यूके में, कोविद चैलेंज ट्रायल के तहत, कोरोना वायरस को जानबूझकर मानव शरीर में डाला जाएगा। ऐसा करने वाला ब्रिटेन दुनिया का पहला देश बन सकता है।

मानव चुनौती अध्ययन के माध्यम से एक टीका

  • यह ट्रायल स्वयंसेवकों पर किया जाएगा। इस परीक्षण का उद्देश्य संभावित कोरोना वायरस वैक्सीन के प्रभावों की जांच करना है।
  • प्राप्त जानकारी के अनुसार, यह प्रयोग लंदन में किया जाएगा। ब्रिटेन सरकार ने कहा कि यह मानव चुनौती अध्ययन के माध्यम से एक टीका बनाने पर चर्चा कर रहा था।
  • मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अभी तक इस तरह के किसी समझौते पर हस्ताक्षर नहीं हुए हैं। एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि हम अपने सहयोगियों के साथ यह समझने के लिए काम कर रहे हैं कि हम मानव चुनौती अध्ययन के माध्यम से संभावित कोरोना वायरस वैक्सीन पर कैसे सहयोग कर सकते हैं।
  • उन्होंने कहा कि यह चर्चा कोरोना वायरस को रोकने, इलाज और ठीक करने के हमारे प्रयासों का एक हिस्सा है। इसके माध्यम से, इस महामारी को जल्द से जल्द मिटाया जा सकता है।
  • गौरतलब है कि दुनिया में कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए वैक्सीन बनाने का काम बहुत तेजी से किया जा रहा है। दुनिया भर में 36 कोरोना वायरस के टीके के नैदानिक ​​परीक्षण किए जा रहे हैं।

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, अमेरिका और चीन के टीके अपने अंतिम चरण में हैं। जबकि रूस ने दुनिया का पहला कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने का दावा किया है। लेकिन दुनिया के कई देशों ने रूस के इस टीके पर सवाल उठाए हैं।

सबसे बड़ी बात यह है कि जहां एक ओर लोग कोरोना वायरस से भयभीत हैं, वहीं बड़ी संख्या में देश के युवा और स्वस्थ स्वयंसेवक ब्रिटिश सरकार के इस कोरोना चैलेंज ट्रायल में भाग लेने के लिए तैयार हैं।

इस परीक्षण से तुरंत इस बारे में जानकारी सामने आ जाएगी कि कोरोना वैक्सीन काम करती है या नहीं। इससे कोरोना का सबसे प्रभावी टीका जल्दी से चुना जा सकेगा। ट्रायल में भाग लेने वालों पर लंदन में 24 घंटे निगरानी रखी जाएगी। माना जा रहा है कि यह प्रयोग जनवरी में शुरू किया जा सकता है।