Conference National Education Policy:”नई एजुकेशन पॉलिसी में पढ़ने की बजाय सीखने पर फोकस , हमने पैशन, प्रैक्टिकल और परफॉर्मेंस पर जोर”

राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर हो रही कॉन्फ्रेंस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया। मोदी ने कहा “नई एजुकेशन पॉलिसी में पढ़ने की बजाय सीखने पर फोकस है। हमने पैशन, प्रैक्टिकल और परफॉर्मेंस पर जोर दिया है।

देश की उम्मीदों को पूरा करने का अहम माध्यम शिक्षा नीति और शिक्षा व्यवस्था होती है। शिक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी से केंद्र, राज्य सरकार और स्थानीय निकाय जुड़े होते हैं। लेकिन, यह भी सही है कि शिक्षा नीति में सरकार का दखल कम से कम होना चाहिए।”

शिक्षा मंत्रालय की तरफ से आयोजित इस कॉन्फ्रेंस में सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री, विश्वविद्यालयों के वाइस चांसलर और सीनियर अफसर शामिल हैं। इसका टॉपिक ‘उच्च शिक्षा में नई शिक्षा नीति की भूमिका’ रखा गया है। नई पॉलिसी घोषित होने के बाद देशभर में कई वेबिनार, वर्चुअल कॉन्फ्रेंस और कॉन्क्लेव आयोजित किए जा रहे हैं।

नई नीति में नॉलेज पर फोकस

  • सरकार ने जुलाई में नई शिक्षा नीति की घोषणा की थी। 34 साल बाद एजुकेशन पॉलिसी को बदला गया है।
  • नई नीति में स्कूल एजुकेशन और हायर एजुकेशन को लेकर बड़े बदलाव किए गए हैं।
  • सभी स्कूलों में कक्षा पांचवीं तक के बच्चों को अब मातृ भाषा या क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाया जाएगा।
  • नई नीति में नॉलेज पर फोकस करते हुए देश को ग्लोबल सुपरपावर बनाने पर जोर दिया गया है।