चिन्यालीसौड़ एयरपोर्ट को अपना प्रमुख बेस कैंप बनाने में जुटी भारतीय सेना

चीन के साथ चल रहे विवाद के बीच भारतीय सेना लगातार उत्तराखंड के चिन्यालीसौड़ एयरपोर्ट को अपना प्रमुख बेस कैंप बनाने में जुटी है।

  • इसके लिए सेना ने पर्याप्त मात्रा में जवान व आधुनिक हथियार तैनात करने के साथ ही कृषि विज्ञान केंद्र के पास अपना दूरभाष केंद्र स्थापित करना भी शुरू कर दिया है।
  • हालांकि सुरक्षा के दृष्टिगत सेना और प्रशासन के अधिकारियों ने इस संबंध में गोपनीयता बनाई हुई है।  
  • भारतीय सेना ने चीन सीमा से सटे सभी क्षेत्रों में अपना संख्या बल बढ़ा दिया है।
  • इसी क्रम में नेलांग बॉर्डर के निकटम चिन्यालीसौड़ एयरपोर्ट पर भी बीते कुछ दिनों में सेना के हथियारों, वाहनों व जवानों की तैनाती की गई है।
  • ताकि आपातकाल स्थिति में उन्हें तत्काल सीमा तक पहुंचाया जा सके। इन सभी तैयारियों के बीच सेना ने अब अपनी संचार सेवा को मजबूत करने के लिए कृषि विज्ञान केंद्र के पास दूरभाष केंद्र भी स्थापित करना शुरू कर दिया है।

केबल बिछाकर लाइन चालू की गई

  • नाम न बताने की शर्त पर विभागीय अधिकारियों ने बताया कि सेना ने 45 दिनों की दूरसंचार सेवा लेने के लिए बीएसएनएल कार्यालय देहरादून में धनराशि जमा कराई है।
  • जिस पर बीएसएनएल द्वारा जलविद्युत निगम विश्राम गृह के पास तक केबल बिछाकर लाइन चालू की गई है।
  • जबकि कृषि विज्ञान केंद्र में दूरसंचार केंद्र स्थापित कर आगे की लाइन बिछाने का कार्य सेना के जवान स्वयं कर रहे हैं।
  • उन्होंने बताया कि इस केंद्र के चालू होने के बाद सेना को सूचनाओं के आदान प्रदान, इंटरनेट, वाईफाई आदि की सुविधा मिल सकेगी।