चीन संभल के रहे, यह 1962 का भारत नहीं, बल्कि 2020 का भारत है ;

भाजपा के सांसद हरनाथ सिंह यादव ने रविवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के चीनी रक्षामंत्री जनरल वेई फेंगहे के साथ बैठक के बाद दिए बयान का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह 1962 का भारत नहीं, बल्कि 2020 का भारत है, यह नेहरू का नहीं नरेंद्र मोदी का भारत है। यह एक नया भारत है। यह मोदी का भारत है, एक मजबूत भारत है। चीनी रक्षामंत्री के साथ शुक्रवार को बैठक के दौरान सिंह ने कहा था कि भारत अपने पड़ोसी को एक इंच जमीन नहीं देगा। 

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक के मौके पर मॉस्को में चीनी रक्षामंत्री को नसीहत देते हुए सिंह ने कहा था कि द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल के अनुसार शांति के लिए आक्रामक रवैया ठीक नहीं है। मतभेदों को दूर करने के लिए भरोसा जरूरी है। इनमें सीमा विवाद और पैंगोंग झील भी शामिल है। एक-दूसरे के प्रति विश्वास, गैर-आक्रामकता और संवेदनशीलता एससीओ क्षेत्र की शांति, स्थिरता और सुरक्षा के लिए जरूरी है। 
यादव ने कहा कि चीन को यह समझना चाहिए कि यह 1962 का भारत नहीं; बल्कि 2020 का भारत है। यह नेहरू का भारत नहीं है; बल्कि नरेंद्र मोदी का भारत है। चीन, भारत से जिस जबान में बात करेगा, उससे अधिक आक्रामकता के साथ भारत उसे जवाब देगा। यादव ने रक्षामंत्री की प्रशंसा करते हुए कहा कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मॉस्को में चीनी रक्षामंत्री के साथ बैठक में स्पष्ट रूप से संदेश दिया है कि हम एक इंच भूमि भी नहीं हड़पने देंगे। हम ईंट का जवाब पत्थर से देंगे।