Diwali 2020: शुभ दिवाली की शुभ कामनाएं

इस बार दिवाली 14 November 2020 शनिवार को है इस त्यौहार को लोग बड़े हर्ष से बनाते है दीवाली का मतलब है प्रकाश का त्यौहार। आप में से हर कोई … Read More

रिश्तों की नाकामयाबी

पंकज ‘प्रखर’, लेखक एवं वरिष्ठ स्तंभकार लता बहुत उत्साहित क्योंकि आज उसकी बेटी रूपल पगफेरे के लिए आने वाली | ससुराल में बहुत व्यस्त कार्यकृम था | परसों शाश्वत के … Read More

अकेलापन

पंकज प्रखर, कोटा राज. प्रमोद ने माइक्रोवेव में खाना गरम किया और और डाइनिंग टेबल पर बैठ कर खाने लगा | जाने क्या बात थी कुछ महीनों से उसे अकेलापन खलने लगा … Read More

व्यंग्य: मोदी साब 100 रूपये दे दो

पीएम साब आप तो बड़े ही महान हो। ये क्या कर दिया आपने, जिससे कि सारी जनता को दुश्वारियां झेलनी पड़ रही हैं। मोदी ज्यू आप गलतफहमी हो शायद कि … Read More

व्यंग्य : 15-15 लाख के चैक दोगे या 100 के नोट दोगे अमित बाबू

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जल्द ही देहरादून आने वाले हैं और नोटों की बारिश करने वाले हैं। आंकड़ों से यह भी पता चला है कि अमित … Read More

व्यंग्य : काले धन का नागिन डांस

ललित शौर्य पांच सौ और एक हजार का नोट जो आँखों में चमक पैदा कर देता था, जो लोगों की बाँछें खिला देता था, जिसको देखकर ही मीठी-मीठी गुदगुदी लगना … Read More

याद है तुम्हें

पदमा शर्मा आँचल अक्सर ये सवाल मुझसे करता है मेरा आज का वजूद आज की स्थिती ये परिस्थिती याद है तुम्हें…?? वो दिन वो मस्ती वो आदतें वो शिकायतें वो … Read More

संदेश देती पांच कविताएँ

ललित शौर्य हमें बचाना होगा खुद को मिट्टी, पानी और आकाश को ये सब जो हमारा तुम्हारा है ये शव नहीं, जीवंत हैं जिसे नोचा जा रहा है वहशी गिद्दों … Read More

“आजकल रा ब्याँव”

विमला बंसल समझदार और पढयो लिख्यो आपांको सभ्य समाज। शादी ब्याँव में लाखों और करोड़ों खरचे आज।। करोड़ों खरचे आज,नाक सब ऊँची रखणी चावे। कुरीत्याँ के दळदळ मांही सगला धँसता … Read More

व्यंग्य: इन्वेस्टमेंट

ललित शौर्य आज का दौर इन्वेस्टमेंट का दौर है। बिना इन्वेस्ट किये यहाँ ठुल्लु भी हासिल नहीं किया जा सकता। यानिकी कुछ पाने के लिए कुछ न कुछ इन्वेस्ट तो … Read More