बिहार विधानसभा चुनाव 2020ः आज लोजपा की बैठक व जदयू की रैली

विहार विधानसभा चुनाव में सभी प्रमुख दलों और गठबंधनों की सक्रियता बढ़ गई है। कोरोना के कारण चुनाव को लेकर जो असमंजस की स्थिति थी, अब वह समाप्त हो गई है। आज पटना और दिल्ली में महत्वपूर्ण रैली और बैठकें होने जा रही हैं। आज भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री बीएल संतोष पटना आ रहे हैं, और मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और बिहार के प्रभारी देवेंद्र फडणवीस भी बिहार आ रहे है।

भाजपा ने चुनाव के लिए चुनाव आयोग पर छोड़ दिया है। लोजपा पक्ष में नहीं है। चिराग पासवान के रुख से विपक्ष का हौसला बढ़ा है। पप्पू यादव ने चुनाव रोकने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर करने की तैयारी कर रखी है। किंतु इन सबके बीच चुनाव आयोग ने अपनी तैयारियों में तेजी कर दी है।

सवाल यह है कि कोई दल चुनाव करवाना चाहता है तो क्यों और कोई टालना चाहता है तो क्यों? विपक्ष की ओर से कोरोना बताया जा रहा है, लेकिन सही तौर पर लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों से लाखों की संख्या में लौटे कामगारों और बेहाल लोगों पर सरकार की रहमत से बने सकारात्मक माहौल का डर सता रहा है। केंद्र सरकार की मुफ्त अनाज योजना और राज्य सरकार की ओर से कामगारों को एक-एक हजार रुपये की मदद एवं वृद्धजन पेंशन की अग्रिम राशि के असर को लेकर विपक्ष अभी से घबराया हुआ है

पांच साल पहले 2015 में निर्वाचन आयोग ने नौ सितंबर को चुनाव की अधिसूचना जारी कर दी थी। इस लिहाज से राजनीतिक दलों के पास अब गठबंधन, तालमेल, सीट बंटवारे और प्रचार की तैयारियों के लिए समय नहीं है। पिछली बार अबतक दोनों तरफ के गठबंधनों की तस्वीर साफ हो गई थी। राजग और महागठबंधन के घटक दलों के बीच सीट बंटवारे का फार्मूला लगभग तय हो चुका था। यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई प्रमुख नेताओं की जनसभाओं की तिथियां भी तय हो गई थीं। अबकी अबतक सारी गतिविधियां ठहरी हुई दिख