अब सरकारी स्कूल में 9 से 12 कक्षा के छात्रों को मिलेगी मुफ्त किताबें

अंग्रेजी और कंप्यूटर में महारथ रखने वाले युवाओं को गेस्ट टीचर टीचर के रूप में नियुक्त किया जायेगा

  • सरकार ने सरकारी स्कूलों में छात्र-छात्राओं को अंग्रेजी और कंप्यूटर में दक्ष बनाने के लिए अहम निर्णय किया है।
  • इसके तहत कार्यरत शिक्षकों से इतर व्यवस्था के तहत अंग्रेजी और कंप्यूटर में महारथ रखने वाले युवाओं को गेस्ट टीचर के रूप मे नियुक्त किया जाएगा।
  • इससे जहां नियमित शिक्षकों पर अतिरिक्त दबाव नहीं पड़ेगा। वहीं छात्रों को अपने शैक्षिक और व्यावहारिक ज्ञान को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी।
  • शिक्षकों को अच्छा वेतन और सुविधाएं मिलने के बावजूद शिक्षा में गुणात्मक सुधार की कमी का प्रश्न हम सबके सामने हैं। हमें इस पर चिंतन करना होगा। शिक्षा की बेहतरी को सभी को पूरे मनोयोग से प्रयास करने होंगे।

सरकारी स्कूलों में बोर्ड परीक्षा के 100 टॉपर्स को छात्रवृत्ति, साइकिल और धनराशि के वितरण का प्रस्ताव

  • उत्तराखंड में कक्षा नौ से बारह तक के सभी वर्गों के छात्र-छात्राओं को मुफ्त किताबें दी जाएंगी। यह व्यवस्था अगले वर्ष से लागू होगी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान यह घोषणा की।
  • राज्य में अभी केवल आरक्षित वर्ग के छात्रों को मुफ्त किताबें दी जाती हैं। साथ ही कक्षा एक से आठ तक के छात्रों को पहले से ही समग्र शिक्षा अभियान के तहत मुफ्त किताबें मिलती आ रही हैं। 
  • मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि सरकारी स्कूलों के 12वीं की बोर्ड परीक्षा के 100 टॉपर्स को उच्च शिक्षा की तैयारी के लिए छात्रवृत्ति दी जाएगी।
  • मैदानी क्षेत्र की कक्षा नौ की छात्राओं को साइकिल व पर्वतीय क्षेत्र की छात्राओं को 2850 रुपये की धनराशि के वितरण का प्रस्ताव भी शीघ्र तैयार करने के निर्देश भी दिए।
  • बैठक में प्रधानाचार्यों की कमी का मामला सामने आने पर उन्होंने इसे दूर करने के निर्देश ।