गृह मंत्री अमित शाह ने एक अहम बैठक किसानों के साथ की

नए कृषि कानूनों को लेकर आंदोलनरत किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ वार्ता नाकाम होने के ठीक एक दिन बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक अहम बैठक की।

तीन दिसम्बर को किसानों से होने वाली बातचीत के मद्देनजर विचार-विमर्श

  • घंटे भर चली इस बैठक में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल शामिल रहे।
  • शाह के आवास पर हुई इस बैठक में गत मंगलवार को किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ हुई बातचीत पर चर्चा की गई। इसके साथ ही गुरुवार तीन दिसम्बर को किसानों से होने वाली बातचीत के मद्देनजर विचार-विमर्श किया गया।

तोमर और गोयल से किसानों के साथ वार्ता को लेकर चर्चा

  • शाह ने तोमर और गोयल से किसानों के साथ हुई बातचीत के बारे में विस्तार से जानकारी लेने के बाद गुरुवार को होने वाली वार्ता को लेकर चर्चा की।
  • उल्लेखनीय है कि सरकार ने बीते मंगलवार को यहां विज्ञान भवन में किसान संगठनों के नुमाइंदों से वार्ता की। वार्ता में सरकार ने एक कमेटी गठित करने का प्रस्ताव रखते हुए किसानों से कहा कि वह अपनी ओर से 4-5 सदस्यों के नाम दें।
  • कमेटी में कृषि विशेषज्ञ और सरकार के नुमाइंदों को भी शामिल किया जाएगा, किंतु किसानों ने सरकार के कमेटी बनाने के प्रस्ताव को नामंजूर करते हुए आंदोलन जारी रखने का ऐलान कर दिया।
  • विज्ञान भवन में 32 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों और सरकार के बीच तकरीबन साढ़े तीन घंटे चली बैठक बेनतीजा साबित हुई। सरकार की ओर से कृषि व किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और राज्य मंत्री सोमप्रकाश बैठक में शामिल हुए।
  • बैठक के बाद कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तोमर ने कहा कि बैठक में दोनों पक्षों के बीच कुछ मुद्दों पर समझ बनी है। उन्होंने कहा कि तीन दिसम्बर को फिर वार्ता होगी। किसान संगठन भी अपने मुद्दे लेकर आएंगे और उसपर चर्चा होगी।