देश में 12 सितंबर से चलेंगी 80 नई विशेष ट्रेनें

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने शनिवार को बताया कि 12 सितंबर से 80 नई ट्रेने चलेंगी. इसके लिए आरक्षण 10 सितंबर से शुरू होगा.

यादव जी ने कहा कि ट्रेनों के संबंध में अधिसूचना बाद में जारी की जाएगी.

उन्होंने कहा, ‘80 नई विशेष ट्रेनें या 40 जोड़ी ट्रेनें 12 सितंबर से शुरू होंगी.

इसके लिए आरक्षण 10 सितंबर से शुरू होगा. ये ट्रेनें पहले से ही चल रहीं 230 ट्रेनों के अतिरिक्त होंगी.’

यादव जी ने कहा कि रेलवे वर्तमान में संचालित सभी ट्रेनों की निगरानी कर पता लगाएगा कि किन ट्रेनों में प्रतीक्षा सूची लंबी है.

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा, ‘विशेष ट्रेन के लिए जब भी जरूरत होगी, जहां भी प्रतीक्षा सूची लंबी होगी, हम मूल ट्रेन के बाद उसी तरह की (क्लोन) ट्रेन चलाएंगे ताकि यात्री उसमें यात्रा कर सकें.’

यादव ने यह भी कहा कि परीक्षा या अन्य किसी भी उद्देश्य के लिए राज्यों से अनुरोध मिलने पर रेलवे ट्रेनों का परिचालन करेगा.

द मिंट की रिपोर्ट के अनुसार, इन ट्रेनों का समय नियमित ट्रेनों के अनुसार होगा. ठहराव को प्रतिबंधित किया जाएगा और इसे लेकर संबंधित राज्य सरकारों के साथ विचार-विमर्श किया जाएगा.

रेलवे ने कहा था कि विशेष ट्रेनों में यात्रियों की संख्या पर नियमित नजर रखी जा रही है और आवश्यकता के आधार पर अतिरिक्त विशेष ट्रेनें चलाई जा सकती हैं.

इससे पहले रेलवे ने कोरोना वायरस से सुरक्षा के मद्देनजर लागू लॉकडाउन के दौरान सभी ट्रेन सेवाओं को 12 अगस्त तक निलंबित कर दिया था.

अनिश्चितकाल के लिए यात्री ट्रेन सेवाओं के स्थगित रहने से भारतीय रेलवे ने इस वित्त वर्ष के लिए अपने यात्री व्यवसाय में लगभग 40,000 करोड़ रुपये के नुकसान का अनुमान लगाया है.

कोरोना वायरस के मद्देनजर बीते 25 मार्च से लॉकडाउन लागू होने के बाद भारतीय रेलवे ने सभी यात्री ट्रेन सेवाओं को निबंलित कर दिया था. लॉकडाउन की वजह से प्रवासी संकट खड़ा होने के बाद रेलवे ने बीते एक मई से मजदूरों को उनके मूल निवास स्थान भेजने के लिए विशेष श्रमिक ट्रेनें चलाई थीं.