124864 बच्चों को टीका लगाने का लक्ष्य

अल्मोड़ा। मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 निशा पाण्डे ने बताया कि जनपद में चलाये जा रहे मीजिल्स रूबेला अभियान के तहत जनपद में 124864 बच्चों को टीका लगाने के लक्ष्य रखा गया था। जिसके सापेक्ष अभी तक 110084 बच्चों का टीकाकरण कर दिया गया हैं। उन्होंने बताया कि 88 प्रतिशत टीकाकरण का कार्य पूरा हो चुका है।

इसके लिये 1100 कैम्प लगाये गये जिसमें विद्यालय, आगनबाड़ी तथा सामुदायिक सत्र शामिल है। राष्ट्रीयव्यापी अभियान के अन्तर्गत खसरा तथा रूबेला के प्रति सुरक्षा प्रदान करने के लिये यह टीका 09 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों प्रशिक्षत स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा लगाया जा रहा है। जिला स्तर पर अभियान का निरीक्षण अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 योगेश पुरोहित, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा0 ए0के0 सिंह द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि विकास खण्ड स्तर पर समस्त प्रभारी चिकित्साधिकारियों तथा राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीमों द्वारा अभियान का पर्यवेक्षण किया जा रहा है।

मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि कार्यक्रम में विद्यालयी शिक्षा, पंचायती राज, महिला एवं बाल विकास आदि विभागांे द्वारा सहयोग दिया जा रहा है। इस कार्यक्रम की समीक्षा जिलाधिकारी द्वारा प्रतिदिन की जा रही है साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन की माॅनीटर्स डा0 गौमती द्वारा भी अभियान पर नजर रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि खसरा एक जानलेवा बीमारी है और बच्चों में अपंगता और मृत्यु के बडे कारणों में से एक है अगर स़्त्री को गृर्भावस्था के आरम्भ में रूबेला संक्रमण होता है तो जन्मजात रूबेला सिंड्रोम विकसित हो सकता है जो भ्रूण व नवजात शिशु के लिये गम्भीर व घातक हो सकता है।

उन्होंने बताया कि खसरा और रूबेला से जुडे जानलेवा परिणामों जैसे निमोनिया, दस्त, दिमागी बुखार से बचाव के लिए टीकाकरण की एकमात्र बचाव है। मीजिल्स रूबेला का टीका पूर्ण रूप से सुरक्षित है। मीजित्स रूबेला टीकाकरण के पश्चात कतिपय बच्चों में सिर दर्द, बुखार, चक्कर आना, उल्टी आदि दिक्कतें को सकती है, जो कि सामान्य घटना है। उन्होंने बताया कि जनपद में इस अभियान की प्रगति अच्छी है तथा लोगों में टीकाकरण के प्रति उत्साह है।

Leave a Reply