कोविड-19 की स्थिति सामान्य होने पर यथाशीघ्र पुनः आयोजित करेगी, विश्वविद्यालय छूटे छात्रों की परीक्षायें

श्रीदेव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय के कुलपति डा पीताम्बर प्रसाद ध्यानी ने विपरीत परिस्थितियों में अधिकाधिक संख्या में छात्रों के परीक्षा में प्रतिभाग करने पर प्रसन्नता जाहिर करते हुये कहा कि परीक्षा आयोजन को लेकर देशभर में आंदोलन सहित कई तरह की प्रतिक्रियायें हुई। उसके बाद भी परीक्षा में 98 प्रतिशत छात्र पहुंचे हैं।

डा ध्यानी ने कहा कि परीक्षाओं को बेहतर तरीके से संचालित करने के लिए वे लगातार विश्वविद्यालय परिसरों के प्राचार्य, विश्वविद्यालय से सम्बद्ध राजकीय महाविद्यालय एवं निजी संस्थानों के प्राचार्यों से समन्वय स्थापित किये हुये हैं।

जिससे परीक्षायें शान्तिपूर्ण ढंग से तथा सुचारू रूप से सम्पन्न हो सके। कहा कि कोविड-19 की महामारी को देखते हुये यह निर्णय लिया गया कि जो छात्र कोविड-19 संक्रमण के कारण परीक्षा में सम्मिलित नही हो पायेंगे, ऐसे छूटे छात्रों की परीक्षायें विश्वविद्यालय कोविड-19 की स्थिति सामान्य होने पर यथाशीघ्र पुनः आयोजित करेगी।

साथ ही जिन छात्रों को प्रमोट किया जा रहा है। अगर छात्र एक विषय के दो प्रश्न पत्रों में अपने अंको से संतुष्ठ न हो तो ऐसे छात्र एक विषय के दो प्रश्न पत्रों में भी पुनः परीक्षा दे सकते हैं।