जर्जर हालत में वर्षों पुराना जोशियाड़ा मोटर पुल

file-photo-for-joshiyadaउत्तरकाशी। जनपद का वर्षों पुराना जोशियाड़ा मोटर पुल जनपद में यातायात की दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं। पुल मुख्यालय के दोनों हिस्सों के जोडऩे के साथ ही उत्तरकाशी-लबंगांव मोटर मार्ग और केदारनाथ यात्रा जोडऩे का प्रमुख पुल है।

लेकिन देखरेख के आभाव में यह अब जर्जर स्थिति में है। उत्तरकाशी लंबगांव मोटर मार्ग को जोडऩे के लिए करीब 70 के दशक में लोनिवि ने जोशियाड़ा मोटर पुल का निर्माण किया। इस पुल का स्पान करीब 70 से 75 मीटर लंबा है। वर्षों पुराना होने के कारण यह अब जर्जर स्थिति में है। पुल की स्थिति आज यह है कि इस पर बिछी पेटिंग लगभग पुरी उखड़ चुकी है।

वहीं इसके एबेडमेंट भी भागीरथी के पानी के कारण सीलन खा रहे हैं। पुल के ऊपर बिछि पेटिंग गड्डों में तब्दील हो चुका है। स्थिति इतनी दूभर है कि अगर एक भारी वाहन या ट्रक पुल से गुजर जाए तो उस पर भारी कंपन आता है। लेकिन इसके बाद भी पुल की स्थिति सुधारने के लिए किसी प्रकार के कदम नहीं उठाए गए हैं। जबकि तिलोथ पुल के आपदा में बह जाने के बाद यह मात्र एक मोटर पुल है,जो कि उत्तरकाशी और लबंगांव मोटर मार्ग और केदारनाथ यात्रा को जोड़ता है।