आपकी मुस्कुराहट में छिपा है कूल दिखने का राज़

अक्सर लोगों को यह गलतफहमी हो जाती है कि अगर वे अपने चेहरे को भावशून्य रखें तो वे कूल दिखेंगे लेकिन हाल ही में हुई एक स्टडी में खुलासा हुआ है कि किसी व्यक्ति के एक्सप्रेशनलेस चेहरे की बजाए मुस्कान भरा चेहरा दूसरों को ज्यादा आकर्षक लगता है। अमेरिका के यूनिवर्सिटी ऑफ एरिजोना के सैलेब वॉरेन कहती हैं, हमने अपनी स्टडी में पाया कि प्रिंट के विज्ञापनों में जो लोग कथित रूप से भावशून्य चेहरे के साथ कूल दिखने की कोशिश करते हैं वही लोग जब मुस्कुराते हैं तो वे ज्यादा कूल दिखते हैं।

कन्ज्यूमर साइकॉलजी में छपी स्टडी

वॉरेन कहती हैं, भावशून्य चेहरे वाले लोगों को देखकर ऐसा नहीं लगता कि वे कूल हैं बल्कि उन्हें देखकर अमित्रता और भावनारहित वाली फीलिंग आती है। जर्नल ऑफ कन्ज्यूमर साइकॉलजी में प्रकाशित इस स्टडी के लिए अनुसंधानकर्ताओं ने प्रतिभागियों को एक कपड़े के ब्रैंड के लिए छपे प्रिंट के विज्ञापनों को देखने के लिए कहा जिसमें से कुछ में मॉडल्स हंस रहे थे और कुछ में नहीं। इसके बाद इन मॉडल्स को 7 पॉइंट स्केल पर रेटिंग देनी थी कि कौन सा मॉडल प्रतिभागियों को सबसे ज्यादा कूल लग रहा है।

कॉन्टेक्सट के हिसाब से बदलाव

प्रतिभागियों ने लगातार हंसने वाले मॉडल्स को ज्यादा रेटिंग दी उन मॉडल्स की तुलना में जिनके चेहरे पर किसी तरह का कोई भाव नहीं था। हालांकि जब एक न्यूज आर्टिकल में मार्शल आर्ट्स फाइटर जो एक दूसरे का सामने करने जा रहे थे, उनके चेहरे प्रतिभागियों को दिखाए गए तो यहां पर प्रतिभागियों ने भावशून्य चेहरे वाले एथलीट्स को ज्यादा कूल और प्रभावशाली माना। वहीं जब कॉन्टेक्सट बदल गया और अपने प्रशंसकों से फ्रेंडली मीटिंग की बारी आयी तो वही मार्शल आर्ट्स फाइटर कूल माने गए जो मुस्कुराहट के साथ अपने फैंस से मिल रहे थे।

स्टडी के नतीजों पर करें गौर

स्टडी में इस बात का भी खुलासा हुआ कि स्टडी में शामिल प्रतिभागियों पर उन ब्रैंड्स का कम असर पड़ा जिनके मॉडल का चेहरा भावशून्य था। ऐसे में अगर ऐडव्टाइजर्स, कन्ज्यूमर्स के बीच फेवरेबल इंप्रेशन बनाने की कोशिश कर रहे हैं तो इस स्टडी के नतीजों पर गौर करने की जरूरत है।

Leave a Reply