योग विभाग बन रहा है सामाजिक व राष्ट्रीय जागरण का केंद्र बिंदु

योग शिक्षा विभाग ,कुमाऊं विश्वविद्यालय परिसर अल्मोड़ा द्वारा एक माह में लगभग 33000 नए लोगों को जोड़ा गया है।

योग शिक्षा विभाग कुमाऊं विश्वविद्यालय की मुहिम” घर-घर योग,व्यक्ति निरोग” में लगभग 33000 नए लोग 21 मई से 21 जून तक जोड़े गये।कुमाऊं विश्वविद्यालय का योग शिक्षा विभाग ,परिसर अल्मोड़ा वास्तव में अपने उद्देश्य को पूर्ण कर रहा है।

शिक्षा का उद्देश्य जहां समाज को जोड़ना ,संगठित करना व राष्ट्र जागरण का भाव जागृत कर समाज को राष्ट्र की मुख्य धारा में लाने का होना चाहिए ,वही आज हमारी शिक्षा प्रणाली किस प्रकार अपने उद्देश्य से भटक रही है,जो केवल रोजगार का जरिया मात्र व उसमे किस प्रकार से राष्ट्रीयता की भावना का लोप होता जा रहा है।

जिसका ताजा उदाहरण जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय है।दूसरी तरफ आज शिक्षा के मूल उद्देश्य को जगाने का प्रयास कुमाऊं विश्वविद्यालय का योग विभाग कर रहा है।जिसके मूल प्रेणता योग शिक्षा विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ नवीन भट्ट है।

जिनके निर्देशन में कुमाऊं विश्विद्यालय का योग विभाग अपनी सामाजिक व राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

योग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ नवीन भट्ट के नेतृत्व में प्रतिवर्ष समाज जागरण के भाव को लेकर घर-घर योग का प्रचार -प्रसार कर व्यक्ति के समस्त रोगों के नाश के साथ ही उनके भीतर राष्ट्रीय भाव उत्पन्न कर समाज की मुख्य धारा से जोड़ने का कार्य किया जा रहा है।

इसी क्रम में आयुष मंत्रालय,भारत सरकार द्वारा योग विभाग के कार्यों को देखते हुए इसे अल्मोड़ा व बागेश्वर जनपद हेतु नोडल एजेंसी बनाया गया था।

जिसमे योग विभाग द्वारा विभिन्न पार्कों ,मैदानों,विद्यालयों,विभिन्न प्रकार के शिक्षण संस्थानों ,एन सी सी कैडेटों ,एन एस एस सहित अनेकों संस्थाओं को प्रशिक्षण दिया गया जिसमें लगभग 33000 नए लोगो को प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से “घर -घर योग ,व्यक्ति निरोग”मुहिम से जोड़ा गया।

इसके अतिरिक्त योग विभाग द्वारा समय -समय पर रक्तदान कार्यक्रम,स्वच्छ्ता अभियान,वृक्षारोपण अभियान ,धूम्रपान निषेध आंदोलन व बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ आंदोलन संचालित करने के साथ ही अनेकों समाज उपयोगी आंदोलन करने के साथ ही उत्तराखंड की भौगोलिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए आपदा के समय हेतु आपदा सेल बनाने का काम किया जा रहा है।

इसके साथ ही समय-समय पर अनेकों राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कार्यशालाओं का आयोजन कर समाज को लाभान्वित किया जा रहा है।

योग विभाग द्वारा 21 मई से 21 जून तक घर -घर व प्रत्येक गांव में पहुंच कर संपर्क करते हुए रोगियों की सेवा कर उनको योग का प्रशिक्षण दिया गया।

योग विभाग की मुहिम धीरे -धीरे समाज मे अपना रंग दिखा रही है।जिसकी लोग भूरी -भूरी प्रशंसा करने के साथ ही क्रांति के अग्रदूत के रूप में देख रहे है।

21 जून को दोनों जनपदों में आयोजित कार्यक्रमों में लगभग हजारों की हजार संख्या में लोगों ने प्रतिभाग किया। वर्तमान समय मे जहा अधिकतरं छात्र-छात्राए नकारात्मक पहलू पर ज्यादा ध्यान दे रहे है।

केवल आंदोलन ,जिंदाबाद -मुर्दाबाद के नारों से बिना समाधान के ही समस्या का समाधान समझते है।ऐसे समय मे कुमाऊं विश्वविद्यालय का योग विभाग के अध्यक्ष डॉ नवीन भट्ट व उनके छात्र-छात्राओं की टीम समाज व राष्ट्र में सकारात्मक पहल कर समाज मे परिवर्तन ला रही है।जो वास्तव में काबिले तारीफ के साथ ही समाज को जागृत करने वाली व वर्तमान शिक्षा प्रणाली को आइना दिखाने वाली है।योग शिक्षा विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ नवीन भट्ट का कहना है कि वे विभाग को विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों का केंद्र बनाकर ऐसा उपयोगी विभाग बनाना चाहते है जो समाज को कई मायनों में लाभान्वित करने के साथ ही समाज व राष्ट्र जागरण का केंद्र बिंदु बने।