उत्तराखण्ड में आपार पर्यटन

देहरादून। विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर आज पर्यटन विभाग एवं गढवाल मण्डल विकास निगम के संयुक्त तत्वाधान में क्षेत्रीय पर्यटन कार्यालय देहरादून में एक गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में विधायक राजपुर रोड खजानदास ने कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होने कहा कि विश्व पर्यटन दिवस को धूम-धाम से मनाने की आश्यकता है, जिसमें सभी की सहभागिता सुनिश्चित होनी चाहिए।

उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड पर्यटन के क्षेत्र में स्वीटजरलैण्ड हो सकता है, क्योंकि उत्तराखण्ड में पर्यटन की आपार सम्भावनाएं हैं, जिसमें कई ऐतिहासिक पर्यटन क्षेत्र हैं जिन्हे सुदृढ एवं बेहतर करने के लिए प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है। उन्होने सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों से अपेक्षा की है कि वे अपनी लम्बी सेवा के दौरान उनके पास काफी समय है जो राज्य में पर्यटन को बढावा देने के लिए तथा संशाधनों को जुटाने के लिए निति निर्धारण कर पर्यटन को बढावा कैसे दें तथा कैसे पर्यटकों को आकर्षित करें, ऐसी कार्य योजना तैयार करें, जिसके माध्यम से बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया हो सकें।

उन्होने कहा कि सरकार भी इस क्षेत्र में बेहतर कार्य करने का प्रयास कर रही है तथा पर्यटन मंत्री द्वारा राज्य में बढावा देने के लिए पौराणिक मन्दिरों, लोक गाथाओं, पर्यटन स्थलों को चिन्हित कर उनका सौन्दर्यीकरण एवं सुदृढिकरण का कार्य कर रहें हैं इसके लिए उनका धन्यवाद किया। उन्होने यह भी सुझाव दिया है कि जो पौराणिक पर्यटन स्थल हैं उन पर्यटन स्थलों को जीर्णोद्धार किया जाये न कि उनको नये सिरे बनाया जाय। इस अवसर पर निदेशक पर्यटन कुडियाल ने अपने सम्बोधन में कहा कि उत्तराखण्ड में पर्यटन की आपार सम्भावना है , जिसमें सभी की सहभागिता की आवश्यकता है।

उन्होने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने हेतु विभाग द्वारा कई कार्य योजनाएं तैयार की जा रही हैं। इस अवसर पर संयुक्त निदेशक पर्यटन पुनम चांद, विवेक चैहान, पर्यटन मंत्री के सलाहकार एन.एस नयाल, इस अवसर पर होटल मैनेजमैन्ट के प्रधानाचार्य राम सिंह नेगी, जिला पर्यटन विकास अधिकारी के.एस रावत, जगदीश खन्ना, जिला पंचायत सदस्य संध्या थापा सहित होटल मैनेजमैन्ट की छात्र/छात्राओं सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।