क्रियान्वयन पारदर्शिता के साथ हो : गहतोड़ी

चम्पावत। समाज कल्याण विभाग द्वारा पात्र लाभार्थियों, गरीब, विकलांग, निःसहाय लोगों को पेंशन एवं सरकार द्वारा चलायी जा रही जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ उनके ही क्षेत्र में दिये जाने के उद्देश्य से सूखीढ़ांग में आयोजित जन सुविधा शिविर में बोलते हुए स्थानीय विधायक कैलाश गहतोड़ी ने कहा कि उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं का क्रियान्वयन समय से पारदर्शिता के साथ हो इसलिए   सभी अधिकारी आपसी तालमेल के साथ योजनाओं को धरातल पर उतारें। उन्होंने कहा कि योजनाओं को समाज के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचाने का प्रयास करने के साथ ग्रामीणों को योजनाओं के बारे में सरल तरीके से अवगत भी करायें जिससे पात्र, निःसहाय, गरीब व्यक्ति भी योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सके।

उन्होंने आम जनता को संबोधित करते हुए कहा कि जनसुविधा शिविर में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर अपनी समस्याओं का समाधान करायें। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के चुहुमुखी विकास के साथ पात्र, गरीब लोगों को सभी योजनाओं का लाभ प्रदान किया जायेगा। शिविर में जिला समाज कल्याण अधिकारी बंशीधर पंत ने कहा कि विस्तार से विभागीय योजनाओं की जानकारी देने के साथ विभाग द्वारा लोगों को प्रपत्र भी उपलब्ध कराये जिससे वे प्रपत्रों को क्षेत्रीय कार्मिकों के माध्यम से पूर्ण कर विभाग को उपलब्ध करा सकें।

शिविर में राजस्व विभाग द्वारा आय, जाति के 14, ग्राम्य विकास विभाग द्वारा 25 परिवार रजिस्टर की नकल, 5 बीपीएल प्रमाण-पत्र जारी करने के साथ उद्यान, सहकारिता एवं कृषि विभाग द्वारा 86 कृषि यंत्र, लगभग 25 किलो बीज 50 प्रतिशत अनुदान पर वितरण किया गया। समाज कल्याण विभाग द्वारा 17 पात्र व्यक्तियों के आधारकार्ड प्राप्त करने के साथ 15 आधारकार्ड बनाये गये और 3,50,000 रूपये की एफडी गौरादेवी कन्याधन योजना के लाभार्थियों को शिविर में वितरित करने के साथ विकलांग के 2, वृद्धावस्था के 7, तीलू रौतेली के 2 प्रपत्र भी शिविर में पूर्ण किये गये।

चिकित्सा विभाग द्वारा 6 विकलांग प्रमाण-पत्र वितरित करने के साथ 67 मरीजों की जांच कर निःशुल्क दवा वितरित की गई।    शिविर में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.एमएस बोरा, डा.उदय शंकर, डा.एचएस ऐरी, तहसीलदार गोविन्द प्रसाद, जिला उद्यान अधिकारी एनके आर्या, समाज कल्याण के मोहन गिरी, जितेन्द्र चन्द, दीपक गहतोड़ी, आशीष पुजारी के साथ-साथ कृषि, उद्यान, सहकारिता, ग्राम्य विकास आदि विभागों के कार्मिक उपस्थित थे।