टिप्स : रहें हरदम फिट

बढती एज के साथ आपकी लाइफ भी बिजी होती जारी है। तरह-तरह की जिम्मेदारियां, बढती जरूरतें आपको मशीन बना देती हैं और आपको आराम करने की फुर्सत ही नहीं मिलती, फिर आप नर्वस सिस्टम जाने-अनजाने में ही प्रभावित होने लगात है। नर्वस सिस्टम का कमजोर होने एक ऐसी बीमारी है, जो आपकी हेल्थ को दीमक की तरह चाट जाती है।

आप शारीरिक-मानसिक रूप से किसी भी काम के लिए फिर नहीं रह जाते हैं। यह एक ऐसा रोग है, जो बाहर से नजर नहीं आता, पर अंदर ही अंदर आपको पीडा से छटपटाते रहते हैं। आप हमेशा शारीरिक और मानसिक दुर्बलता महसूस करते हैं। बात-बात पर आपको गुस्सा आ जाता है। आप जल्दी ही झगडा कर बैठते हैं।

अपना कांफिडेंस खो बैठते हैं। मन अस्थिर रहने लगता है और अच्छे-बुरे को समझने की क्षमता कम हो जाती है। हर वक्त ये विचार आता रहता है कि आप किसी योग्य नहीं हैं। झूठ बोलना, स्वार्थी बन जाना आम बात हो जाती हैं। भूख नहीं लगती है। कब्ज बनी रहती है। मन में आत्महत्या का विचार आने लगता है। उपचार के अभाव में आपको लकवा हो जाना, बहरापन आ जाना या बात करने की शक्ति खत्म हो जाना जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं।

योगाभ्यास इस रोग का बेस्ट इलाज है। योगाभ्यास से नर्वस सिस्टम की तमाम परेशानियां दूर हो जाती हैं और आप खुद को पहले की तरह फिट और तरोताजा महसूस करने लगते हैं। इसके लिए सयम निकालें क्योंकि फिट रहने के लिए खुद की देखभाल जरूरी है और यह काम से भी अधिक जरूरी है।

भोजन जल्दी पचने वाला और क्षारप्रधान लें। ऐसा खाना खाएं, जिसमें पर्याप्त मात्रा में सोडियम, फासफेरस और विटामिन बी-1 हो। यह खनिज तथा विटामिन फलों, दूध, चोकर, हरी सब्जियों, दालों के छिलकों आदि में सबसे अधिक होता है।

बे्रकफास्ट में कभी दूध-दलिया, कभी मंूग, मोठ, चना, अंकुरित कर बाद में थोडा भाप से हल्का पकाकर उसमें प्याज, अदरक, टमाटर, खीरा आदि मिलाकर या मिक्स आटे की रोटी मक्खन-मलाई के साथ लें और साथ में दूध पीएं। कोई नशा ना करें। शराब पीते हैं तो कम करें या बिल्कुल ही छोड दें। शराब बौडी और आत्मा दोनों का ही नाश करती है।