घर की लाडली थी बेटी शिम्पी

  • मौत के बाद परिजनों का हैं बुरा हाल

बाराचट्टी (अशोक शर्मा )। सडक़ हादसे मे मौत का शिकार बनी छात्रा शिम्पी अपने घर की चिराग थी। आज हुए एक सडक़ दुर्घटना मे मौत के बाद उसके परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हैं।

एक गरीब परिवार की होनहार बेटी पर पूरे परिवार का नाज था। जो पल भर मे ही टूट कर चकनाचूर हो गया हैं। स्थानीय थाना क्षेत्र के राजकुमार यादव की बेटी शिम्पी पिछले साल मैट्रिक की परीक्षा मे अव्वल क्षेणी से पास की थी और परिजनों का तमन्ना था उसे अच्छी शिक्षा देकर स्वावलंबी बना सके। लेकिन नियति को यह रास नही आया।

राजकुमार पर पहाड तो उस वक्त भी टूटा था जब घर मे एकलौता पुत्र को एक साल पहले ही सर्पदंश से मौत हो गया था। लेकिन बेटी ने इस कमी को खलने नही दि थी। लेकिन अब इस दुर्घटना के बाद बाप व मां के सामने अंधेरा ही छा गया हैं। तत्काल कोई सहारा देने वाला नही है। मात्र एक आठ वर्षीय एक छोटी बेटी घर मे बच गयीं हैं।

इस घटना से पुरा परिजनों का हालत गंभीर बना हुआ हैं। इधर स्थानीय प्रशासन ने तत्काल राहत देने का आश्वासन तो दिया हैं। लेकिन यह सहायता कहा तक पहुचायेगा वक्त ही बतायेगा।