सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भिकियासैंण का औचक निरीक्षण

6zx9z82pअल्मोड़ा। दूरस्थ क्षेत्रों से आने वाले मरीजो को बेहतर चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के साथ-साथ अस्पताल में अभिलेखो का अंकन व्यवस्थित करना सुनिश्चित करें यह निर्देश जिलाधिकारी सविन बंसल ने सोमवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भिकियासैंण के औचक निरीक्षण के दौरान दिये। उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र विकासखण्डों में स्वास्थ्य सेवाओं की रीढ़ है इसलिए इन केन्द्रों के रख-रखाव की ओर हमें विशेष ध्यान देना होगा।

जिलाधिकारी ने निरीक्षण के दौरान अस्पताल के आय-व्यय, कैशबुक, लेजर बुक, यूजर्स चार्जेज, रजिस्टर एवं अनुदान रजिस्ट्ररों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान राज्य अनुदान बजट एवं यूजर्स चार्जेज के 50 प्रतिशत ब्यौरे का मिलान सही नहीं पाये जाने पर प्रभारी चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि सम्बन्घित लेखाकार के विरूद्व आवश्यक कार्यवाही अमल में लायें साथ ही वर्ष 2016-17 में बजट वापस किये जाने का भी स्पष्टीकरण सम्बन्धित लेखाकार से पूछा जाय। इसके बाद उन्होंने प्रसव कक्ष, एक्स-रे कक्ष, पैथोलोजी लैब, शिशु कक्ष सहित शौचालयों का भी निरीक्षण किया।

उन्होंने वार्डों में फर्नीचर के लिए आयल पेंटिग एवं आकस्मिक वार्ड और शौचालयों की मरम्मत करने की स्वीकृति प्रदान की। उन्होंने तीन दिन के लिए ब्लाॅक कार्यक्रम प्रबन्धक (बी0पी0एम0) ताड़ीखेत को भिकियासैंण में कार्य करने के निर्देश दिये साथ ही काफी लम्बे समय से खराब पड़ी डेन्टल चियर को भी ठीक करने की मंजूरी दी ताकि वहाॅ पर आने वाले दाॅत के मरीजो को कठिनाई न हो। इसके बाद उन्होंने दवा स्टोर कक्ष में जाकर अभिलेखों एवं रजिस्ट्रर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अभिलेख दुरूस्त पाये गये। जिलाधिकारी ने पुलिस को दी जाने वाली सूचना का भी अलग रजिस्ट्रर बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रभारी चिकित्साधिकारी को समय-समय पर अभिलेखों का निरीक्षण कर उसमें स्वप्रमाणित हस्ताक्षर करने के निर्देश दिये।

GST Ads 250x250px

इस दौरान जिलाधिकारी के साथ उप जिलाधिकारी गौरव चटवाल, अपर मुख्य चिकित्साधिकार डा0 योगेश पुरोहित, जिला विकास अधिकारी मोहम्मद असलम, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, प्रभारी चिकित्साधिकारी डा0 पियूष रंजन, आयुर्वेदिक चिकित्साधिकारी डा0 अजीत तिवारी, डा0 अनीता सक्सेना, डा0 नीमा आर्या सहित चिकित्साधिकारी अन्य कर्मचारी उपस्थित थे।