गर्दन के कालापन से छुटकारा

भारतीय सौन्दर्य में शारीरिक सुंदरता में जहां एक ओर चेहरे की सुंदरता का महत्व है, वहीं गर्दन का महत्व भी कम नहीं मना जाता। उस पर अगर सुराहीदार गर्दन हों, तो क्या कहने आपकी सुंदरता में चार चांद लगा जाते हैं। लेकिन गर्दन की नियमित सफाई या देखभाल ना की जाए तो यही सब चीजें आपकी सुंरदता को कम कर देती है। आपको तो पता ही है, कि गर्दन हमारे शरीर का एक ऐसा अंग है जिस पर उम्र का प्रभाव जल्दी पडता हैं गर्दन पर समय से पूर्व झुर्रियां उभर आने, साथ ही बारीक धारियों के उभरने, चेहरे की तुलना में गर्दन का रंग उतर जाने, गर्दन काली-मैली हो जाने, गर्दन की नियमित सफाई ना करने से चेहरे और गर्दन की स्किन के रंग में फर्क साफ देखाई देने लगता हैं वहीं दूसरी ओर गर्दन बेडौल हो जाने की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है। इसलिए गर्दन की भी उसी प्रकार से देखभाल करनी चाहिए जैसे चेहरे की जाती है।

गर्दन मोटी, झुर्रियों पडने लगें तो खूबसूरत चेहरा होने के बावजूद सुंदरता फीकी पडने लगती है। लेकिन ठीक साफ-सफाई, उचित देखभाल व व्यायाम की मदद से गर्दन को सुंदर और निखरा बनाया जा सकता है। गदर्न पर उम्र का प्रभाव भी जल्दी पडता है। चेहरे की तरह गर्दन भी धूल, गर्द व धुएं की चपेट में आती है। इसेस गर्दन पर झुर्रियों पडने लगती है और इसकी त्वचा कांतिहीन हो जाती है, इसलिए चेहरे के साथ-साथ नियमित रूप से गर्दन की सफाई का भी ख्याल रखना जरूरी होता है नहीं तो चेहरे और गदर्न के रंग में फर्क आ जाता है।
हफ्ते में 2-3 बार पपीते के गूदे से मसाज करने से गर्दन की स्किन पर निखार आता है और साथ ही झुर्रियां भी दूर होती है।

एक केले को ठीक से मसल डालें। इसमें एक चम्मच मिल्क पाउडर मिलाकर इस पेस्ट को गर्दन पर लगाएं। सूखने पर मिनरल वाटर से छुडा लें। इस प्रयोग से गर्दन की झर्रियां दूर हो जाती हैं। नीबू को बीच से काटकर इसमें से बीज निकाल लें। इस नीबू को कच्चे दूध में डुबो-डुबोकर मैली गर्दन पर रगडें। इससे गर्दन की मैल दूर हो जाएगी।