रावत ने सरकार पर बोला हमला

देहरादून। प्रदेश सरकार के छह महीने के कार्यकाल को जनविरोधी ठहराते हुए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कांग्रेस से कमर कसने का आह्वान किया है। रविवार को सोशल मीडिया के जरिए रावत ने जहां प्रदेश सरकार की नीतियों पर तीखा हमला बोला, वहीं कांग्रेस संगठन में भी आग भरने की कोशिश की।

रावत ने ट्वीटर पर लंबी पोस्ट करते हुए कहा कि छह महीने के भीतर सरकार का असली चेहरा सामने आ चुका है। बकौल रावत, प्रदेश के आम आदमी के हित से जुड़़ी कांग्रेस सरकार की योजनाओं को खत्म किया जा रहा है या फिर बदला जा रहा है। यह गलत है। बकौल रावत, अब समय आ गया है कि कांग्रेस कार्यकर्ता सरकार के खिलाफ झंडा बुलंदकर गांव-गांव तक हकीकत को पहुंचाएं।

जनता को अहसास होना चाहिए कि उनके हितों की रक्षा के लिए कांग्रेस हर दम साथ खड़ी है। राज्य खाद्य सुरक्षा योजना के सस्ते अनाज को दो गुना महंगा करने के सरकार इसकी सब्सिड़ी को लाभार्थी के खाते में डालने की तैयारी कर ही है। यह साजिश है। जिनके पास आधार कार्ड और बैंक खाता नहीं है, वो महरूम हो जाएंगे।

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं का नारा लगाने वाले सरकार ने कन्या धन से जुड़ी तीन योजनाओं का विलयकर गौरा नंदा योजना लांच की है। इससे करीब 50 हजार रुपये का नुकसान हर बेटी को है। वृद्धा पोषण योजना, बुजुर्गों को रोडवेज की बसों में मुफ्त यात्रा, तीर्थ स्थलों की यात्रा योजना को भी बदला जा रहा है।

समाज कल्याण विभाग की पेंशन का मानक भी बदलने की तैयारी है। दुग्ध प्रोत्साहन योजना का धन भी नहीं दिया गया, मेरा वृक्ष मेरा धन समेत समेत पर्यावरण से जुड़ी कई येाजनाओं को भी ठंडे बस्ते में डाल दिया है।