पानी का दुरूपयोग न हो : DM

01apr02अल्मोड़ा। जिलाधिकारी सविन बंसल ने जनपद के समस्त उपजिलाधिकारियों, तहसीलदारों अधीक्षण अभियन्ता जल निगम/जल संस्थान, अधिशासी अभियन्ता जल निगम जल संस्थान को कड़े निर्देश दिये है कि विभिन्न क्षेत्रों में पेयजल संकट की समस्या की शिकायत प्राप्त हो रही है। उन्होंने कहा कि पूर्व में निर्देश दिये गये थे कि अपने-अपने क्षेत्रों में सम्बन्धित अधिकारी टैंकरों खच्चरों के माध्यम से पेयजल वितरण कराना सुनिश्चित करेंगे लेकिन उसके बावजूद भी कई क्षेत्रों से बार-बार शिकायत प्राप्त हो रही है जो लापरवाही का द्योतक है।

जिलाधिकारी ने पेयजल से सम्बन्घित अधिकारियों को निर्देश दिये कि इस बात का विशेष ध्यान रखा जाय कि पानी का कही पर दुरूपयोग न हो साथ ही जहा पर लाईन टूटी हुई है उसे जोड़ने का कार्य किया जाय। उन्होंने कहा कि अवैघ रूप से टूल्लू पम्प का संचालन हो रहा है तो उसे भी देखा जाय। पेयजल की कमी को देखते हुए जिलाधिकारी ने आम आदमियो से अपने बगीचो में सिंचाई न करने की अपील की है। उन्होंने कहा कहा कि जितना भी हो सके पेयजल का सही सदुपयोेग हो। जिलाधिकारी ने पेयजल संकट को देखते हुए निर्माण कार्यों में भी पेयजल की खपत कम करने की अपील की है।

जिलाधिकारी ने कहा कि वन विभाग के अधिकारी कोसी कैचमेंट एरिया में सिंचाई विभाग के साथ समन्वय बनाकर तटबन्ध बनाने की भी तैयारी करें ताकि पेयजल संकट से निजात मिल सके। उन्होंने जल संस्थान के अधिकारियों को निर्देश दिये कि जहाॅ पर भी अवैध रूप से यदि कोई लाईन जोड़ते हुए पाया गया तो उसके विरूद्व भी दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लायी जाय। उन्होंने उपजिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि वे समय-समय पर अपने क्षेत्रों में जाकर औचक निरीक्षण करना सुनिश्चित करेंगे और पेयजल समस्या से ग्रसित क्षेत्रों में पेयजल वितरण व्यवस्था के साथ ही वहाॅ पर पेयजल की व्यवस्था कराना सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिये है कि यदि कही पर कोई पेयजल लाइन को तोड़ते हुए पाया जाता है तो उसके विरूद्व दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लायी जाय। उन्होंने अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान को निर्देश दिये है कि बन्द पड़े हैण्डपम्पों को ठीक करने की व्यवस्था की जाय ताकि लोगो को पानी मुहैया हो सके। जनपद में पेयजल की आपूर्ति बाधित होने वाले क्षेत्रों का चिन्हीकरण कर लिया जाय ताकि वहाॅ पर व्यवस्थायें हो सकें। जिलाधिकारी ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को भी निर्देश दिये कि वे कोसी बैराज पर  पूरी नजर रखें वहाॅ पर पानी के स्टोरेज की सूचना प्रत्येक दिन वे कन्ट्रोल रूम में देना सुनिश्चित करेंगे।

इसी के साथ ही जिलाधिकारी ने लोगो से वनाग्नि रोकने के लिए सहयोग की अपील की है। उन्होंने बताया कि शीघ्र ही पेयजल विभाग, राजस्व विभाग, सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ एक महत्पूर्ण बैठक आहूत की जायेगी उस बैठक में सभी अधिकारी पूर्ण तैयारी के साथ आयेंगे साथ ही यह भी सूचना बैठक लेकर आयेंगे कि उनके क्षेत्रों में कहाॅ-कहाॅ पर पेयजल की समस्या बनी हुई है।

जिलाधिकारी ने बताया कि शासन द्वारा पेयजल की समस्या को गम्भीरता से लिया जा रहा है इसलिए जनपद स्तर पर भी अधिकारियों को इसके लिए सर्तक रहना पड़ेगा और शिकायतकर्ताओं की समस्याओं का निदान भी त्वरित गति से करना पड़ेगा। उन्होंने निर्माण सामग्री सड़कों में अव्यवस्थित ढ़ग से फैकने एवं पेयजल लाईनो के ऊपर फैकने पर भी आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश नगरपालिका सहित लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को दिये है।

जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये है कि वे जनपद की सभी सड़कों को दुरूस्त रखे ताकि पेयजल की समस्या से निजात दिलाने के लिए टैंकरों को ले जाने में काई असुविधा न हो। उन्होंने यह भी निर्देश दिये है कि सिंचाई नहरों में पानी का अनावश्यक रूप से दुरूपयोग न करने के निर्देश दिये है।