एक आआप विधायक बाहर आ नहीं पाता, दूसरा और तीसरा कतार में लग रहा है

आर.बी.एल.निगम, ब्यूरो चीफ

RBL Nigamपिछले कुछ दिनों से आम आदमी पार्टी यानी AAP के नेता लगातार विवादों में घिरते जा रहे हैं, जानिए ये अरविंद केजरीवाल की भारी चूक है या फिर राजनीति ?

केजरीवालदिल्‍ली में सत्‍ताधारी आम आदमी पार्टी लगातार सवालों में घिरती जा रही है। केजरीवाल के दस विधायक जेल की हवा खा चुके हैं। बाकियों का भी नंबर लगातार लग ही जा रहा है। एक के एक रोजाना कोई ना कोई नया खुलासा होता है। नया मुकदमा दर्ज होता है। हालांकि पार्टी इन सब को राजनीति से जोड़कर देख रही है। लेकिन, कानून का नजरिया राजनैतिक नहीं है। केजरीवाल के विधायक रिमांड पर भेजे जा रहे हैं। न्‍यायिक हिरासत में जा रहे हैं और ये सब कोर्ट के निर्देश पर हो रहा है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्‍या AAP ऐसे ही थे।

  aapno1 दिल्‍ली की जनता और विपक्षी पार्टियां मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल से सवाल कर रही हैं कि आपके ईमानदार विधायक और नेता कैसे चंद महीनों में ही दागी होते जा रहे हैं। जबकि पार्टी लगातार ये दावा करती रही है कि पार्टी में आने वाले हर नेता को स्‍क्रूटनी के बाद ही शामिल किया गया। लेकिन, अब केजरीवाल की इसी स्‍क्रटनी पर सवाल खड़े हो रहे हैं कि कैसे ईमानदार नेता इतनी जल्‍दी दागी होते जा रहे हैं। वो भी तक जब सभी को पता है कि अगर केजरीवाल या उनके न‍ेताओं के खिलाफ गलत कार्रवाई की गई मामला राजनैतिक रंग ले लेगा।

इन दिनों आम आदमी पार्टी के नेताओं पर मानों साढे साती चल रही हो। लगता है शनि की दृष्टि वक्री चल रही है। छतरपुर से आम आदमी पार्टी के विधायक हैं करतार सिंह। इनकम टैक्‍स करतार सिंह की करीब 20 कंपनियों की जांच कर रही है। उनके घर और दफ्तरों में इनकम टैक्‍स का छापा मारा गया। 11 जगहों पर इनकम टैक्‍स का सर्च ऑपरेशन चल रहा है। इनकम टैक्‍स के सौ से ज्‍यादा अधिकारी इस छापेमारी में शामिल हैं। जाहिर है बिना किसी लीड के इनकम टैक्‍स इतनी बड़ी रेड आर्गेनाइज नहीं कर सकता।

aapno2कहने को तो स्‍वाति मालीवाल दिल्‍ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष हैं। लेकिन, सभी को पता है कि वो आम आदमी पार्टी से आंदोलन के दौरान से जुड़ी हैं। स्‍वाति मालीवाल के पति नवीन जयहिंद आम आदमी पार्टी के हरियाणा के प्रभारी है। स्‍वाति मालीवाल अरविंद केजरीवाल की मुंहबोली बहन भी हैं। इन पर भी एक मुकदमा दर्ज हुआ। स्‍वाति मालीवाल पर आरोप है कि उन्‍होंने बुराड़ी की रेप पीडि़ता का नाम सार्वजनिक कर दिया। हालांकि स्‍वाति इन आरोपों से इनकार करती हैं लेकिन, वो सवाल भी उठाती हैं कि आखिर क्‍यों रेप पीडि़ता का नाम छुपाया जाना चाहिए।

आरोप है कि एक महिला खुद को AAP विधायक का करीबी बताकर इस महिला को ब्लैकमेल कर रही थी और उसे दुष्कर्म के मामले में फंसाने की धमकी दे रही थी ।

aapno3एक-एक कर AAP के विधायक कानूनी पचड़ों में फंस रहे हैं नया मामला जनकपुरी से AAP विधायक राजेश ऋषि का है. आरोप लगाने वाली कोई और नहीं AAP की ही एक महिला कार्यकर्ता है. मामला तब सामने आया जब महिला ने फिनायल पीकर अपनी जान लेने की कोशिश की. 40 साल की इस महिला को दीनदयाल अस्पताल में भर्ती कराया गया. पुलिस मौके पर पहुंची तो जांच में जनकपुरी से AAP MLA राजेश ऋषि का भी नाम सामने आया.

दरअसल मामला AAP की ही दो महिला कार्यकर्ताओं के झगड़े का था. महिला का आरोप है कि विधायक राजेश ऋषि का नाम लेकर आप की ही एक कार्यकर्ता उससे पैसे की उगाही, अशलील हरकत और जान से मारने की धमकी दे रही है. सुसाइड की कोशिश करने से पहले उसने एक सुसाइड नोट लिखा जिसमें जनकपुरी से AAP विधायक राजेश ऋषि का भी नाम है.

aapno00पूरी घटना 15 जुलाई की है. उस वक्त महिला की हालत गंभीर थी और वो बयान देने की स्थिति में नहीं थी. महिला के पति ने सुसाइड नोट पुलिस को सौंपा. जिसकी जांच पुलिस कर रही है. आरोप है कि एक महिला खुद को विधायक का करीबी बताकर इस महिला को ब्लैकमेल कर रही थी और उसे दुष्कर्म के मामले में फंसाने की धमकी दे रही थी. आप कार्यकर्ता इस महिला से 25 लाख रूपये मांग रही थी जिसमें से पांच लाख रूपये दे भी दिये गये थे.

इधर जानकारी ये भी मिली है कि आत्महत्या की कोशिश करने वाली महिला के पति के खिलाफ रेप का एक मामला जनकपुरी थाने में दर्ज है. लेकिन इन सबका विधायक राजेश ऋषि से क्या कनेक्शन है ये अभी साफ नहीं है. पूरे मामले में दिल्ली पुलिस दोनों पक्षो की शिकायत पर कार्रवाई कर रही है. बहरहाल कानून का शिंकजा आप विधायकों पर कसने का सिलसिला बरकरार है. AAP विधायकों के खिलाफ मामले दर्ज हो रहे है और लिस्ट लंबी होती जा रही है.