फेंको निंदा बम : मुंह भी खोलते हैं बड़ी मुश्किल से

ललित शौर्य

फिर से आतंकी हमला। उन्होंने गोलियां चलाई , हमने निंदा और कड़ी निंदा बम से प्रहार से किया। इधर हमारे लोग हताहत हुए, उधर हमारी निंदा से उनके हौंसले बढ़े। इन्होंने दावा किया था कि यहाँ पंछी भी पर नहीं मारा सकता। लेकिन आतंकियों ने 6 लोगो को मार गिराया, और ये पंछी को भी मार न सके। वो हमलों के नए-नए उपाय खोजते रहे, ये निंदा को और कड़ा करते रहे। 30 हजार की फ़ौज के बाद भी भोले भक्तों पर गोलियां चलती है, और वो 4 सुरक्षा कर्मियों की आड़ में सुरक्षित रहकर निंदा करते हैं।

कभी एक के बदले 10 वाला जुमला उछाला गया था, आज वो 10 मार जाते हैं यहाँ से निन्दा में हवा भरकर उड़ाई जाती है। वो पदों पर रहकर निंदा करते हैं, पर एक बात सोचने वाली है निंदा करने के लिए मंत्री बनने की जरुरत नहीं। आप इस्तीफा देकर भी निंदा कर सकते हैं। घर बैठकर भी निंदा कर सकते। अब तो लगता है दिल्ली और जम्मू में निंदासुर बैठे हुए हैं । जिनका काम शहादत पर मुंह खोलकर निंदा करना है। अब कब तक निंदा का खेल खेला जाएगा। जरा अपने दोस्तों से तो कुछ सीखो। इजरायल आपका परम मित्र है। पर वो आपकी तरह निंदा नहीं करता। सीधे उड़ा डालता है। घर जाकर मारता है।

उसके लिए देश की सीमाएं मायने नहीं रखती। अपने दुश्मन को मारने के लिए वो पाताल खोद डालता है। और एक आप हैं जो पाताल खोदना तो दूर मुंह भी बड़ी मुश्किल से खोलते हैं। मुंह खुलता भी है तो उससे निंदा ही टपकती है। ऐसा लगता है आप पिछले जन्म में निंदा के भाई चुनिंदा रहे हों। जो हर मामले को निंदा के खोल में लपेट कर तकिया बनाकर सो जाते हैं। अब तो ये निंदा करना छोड़ो, जो भी गड़बड़ करे उसकी हड्डी तोड़ो। निंदा की जगह रियल वाला बम फोड़ो।

आपके पास सुरक्षा और देश के विकास के लिए निधियां और कोटे ख़त्म हो जाते हैं, पर आतंकी घटनाओं पर निंदा करने के लिए दशकों से अब तक निंदा का कोटा खत्म नहीं हुवा। आश्चर्य है। अब इस कोटे को ख़त्म करो। भाषणों में देशभक्ति बहुत हुई। अब सीमा पर देशभक्ति दिखा दो। निंदा की जगह हथियार थमा दो। घर के भेदियों के साथ-साथ सीमा पार के भेड़ियों को उड़ा दो। हमें आपके उड़ानों से दिक्कत नहीं है दिक्कत तो उड़ते हुए बयानों से है। बयानों की वीरता ख़त्म हो, एक्शन में दृढ़ता आये। निंदा का कोटा खत्म करके गोलियों , तोप, गोलों का कोटा बढ़ाइए। जिससे सीने का नाप बना रहे सके। नहीं तो इंच टेप में सिकुड़न स्पष्ट देखि जा सकती है।