केजरीवाल ने मांगी माफी, पहले से ही साफ बर्तन धोए

kejri-news-18716अमृतसर: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में सेवा कर पार्टी की ओर से गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी पर माफी मांगी। केजरीवाल आधी रात को अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में थे। रात तीन बजे वह स्वर्ण मंदिर में भूलबक्श यानी माफी मांगने के लिए पहुंचे थे। लेकिन वहां वो बर्तन साफ करने को लेकर नए विवाद में घिर गए हैं। स्वर्ण मंदिर में अरविंद केजरीवाल बर्तन साफ करते नज़र आए।

हालांकि तस्वीरों में साफ नज़र आ रहा है कि केजरीवाल साफ बर्तनों को दोबारा साफ कर रहे हैं। दरअसल सेवा देने के लिए केजरीवाल ने जिन बर्तनों को साफ किया असल में वो पहले से ही साफ बर्तन थे। यानी साफ बर्तन को ही साफ करके केजरीवाल भूल की माफी के लिए अपनी सेवा दे रहे थे।

केजरीवाल कल रात ही अमृतसर पहुंच गए थे और आज तड़के तीन बजे स्वर्ण मंदिर जाकर सेवा में जुट गए। माना जा रहा है कि अमृतसर में कुछ संगठन केजरीवाल का विरोध भी कर सकते हैं। केजरीवाल ने अपने मैनिफेस्टों की तुलना गुरुग्रंथ साहब से कर दी थी जिसके बाद कई सिख संगठनों ने केजरीवाल का विरोध किया था। इससे पहले रविवार को केजरीवाल जब अमृतसर पहुंचे तो उन्हें कई जगह हिंदू संगठनों के विरोध का सामना करना पड़ा। कहीं जगह उनके खिलाफ नारे लगे तो कहीं लोगों ने काले झंडे दिखाए।

बता दें कि 3 जुलाई को अमृतसर में अरविंद केजरीवाल की मौजूदगी में पार्टी का चुनावी घोषणापत्र जारी हुआ था। आरोप है कि आप नेता आशीष खेतान ने घोषणापत्र की तुलना गीता,बाइबल, गुरु ग्रन्थ साहिब जैसे धार्मिक ग्रंथों से की थी। इतना ही नहीं घोषणा पत्र पर स्वर्ण मंदिर के साथ झाड़ू की एक तस्वीर को लेकर भी सिख संगठनों ने धार्मिक भावनाएं आहत करने का आरोप लगाया।