जब पुलिस और सेना के जवान मरते हैं तब नहीं होता किसी को दर्द : पवन

pawan-dubeyपन्तनगर। युवाषक्ति के अध्यक्ष व भारतीय जनता पार्टी के विधानसभा मीडिया प्रभारी पवन दूबे ने प्रेस को जारी बयान में कहा कि भोपाल की नगर सेन्ट्रल जेल से भागे आठ पाकिस्तान पोशित सिमि के आतंकवादियों का मध्य प्रदेष पुलिस और एस.टी.एफ. द्वारा स्थानीय जनता से प्राप्त जानकारी के बाद किये गये एंकाउन्टर को फर्जी बता सवाल खड़ा किया जा रहा है। कुछ राजनीतिक दल लगातार इस प्रकार के आतंकियों का और देषद्रोहियों का निरंतर समर्थन करते दिखते हैं और देषहित में पूर्ण समर्पित देष की सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राईक को भी फर्जी करार देकर उसके साक्ष्य मांगते दिखते हैं।

मारे गये आठ आतंकियों के लिये जिन लोंगों की सहानुभूति जाग उठी है उस पर युवाषक्ति अध्यक्ष पवन दूबे ने सवाल खड़ा किया है, उन्होंने कहा कि, जब किसी देषद्रोही पर कार्यवाही की जाती है या किसी आतंकवादी के खिलाफ सख्त कदम उठाये जाते हैं तो इन कांग्रेसी व कुछ अन्य दलांे के सीने मंे दर्द उठता है। लेकिन जब उन आतंकियों द्वारा देष मंे की गई आतंकी गतिविधीयों द्वारा कई मासूमों की जानें गईं तब किसी को कभी कोई दर्द नहीं हुआ। जब देष के लिए हमारे सेना के जवान साथी और पुलिस के हमारे साथी षहीद होते हैं इन देष के दुष्मनों के कारण तब किसी कांग्रेसी या अन्य के सीने में दर्द नहीं उठता है।

कहा कि, आखिर क्या कारण है कि आतंकियों के लिये इनके दिलों में इतना प्रेम है जो ऐसी कार्यवाही के बाद दिखाई जरूर देता है। आज देष की जनता पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही के लिये उनको बधाई का पात्र बता बधाईयां दे रही है। परन्तु देष के दुष्मनों की मौत पर कुछ दल रूश्ट हैं क्योंकि वह आतंकी उनकी नजरों में देषभक्त हैं। पवन ने कहा कि, क्यों इनको बाटला हाऊस एंकाउन्टर फर्जी लग रहा था, मगर उस हमले में षहीद हुए स्व0 मोहन चन्द्र षर्मा नहीं दिखे।

कष्मीर में सेना व सीआरपीएफ के जवानों पर फेंके जाने वाले पत्थर नहीं दिखते लेकिन इनको हिंसा करने वालों पर पैलट गन चलाए जाने से दर्द होता है। इन लोंगों और कांग्रेस पार्टी की राश्ट्रिय अध्यक्षा को आंतकियों की मौत देख कर रोना आ जाता है लेकिन देष के लिये मरने वाले सेना व पुलिस के जवान के लिए आंसू नहीं आते। पवन ने कड़ी निंदा करते हुए कहा कि, इनको वो आठ आतंकी तो दिखे लेकिन इनको वह पहरेदार स्व. रामाषंकर नहीं दिखे जिनकी हत्या कर यह आतंकी भागे थे। देष की जनता देष विरोधी ताकतों के खिलाफ मजबूती से देष की सरकार, सेना व पुलिस के साथ खड़े हैं। और देष के दुष्मनों की इस प्रकार एंकाउन्टर का समर्थन करते हैं और अब उन आठ आतंकियों से अब पूरी दुनिया में किसी को कोई खतरा नहीं होगा। पवन ने कहा कि वह केन्द्र सरकार को जल्द पत्र लिख सुझाव देंगे कि आतंकियों का सीधे एंकाउन्टर ही करना चाहिए और उन आतंकियों की मौत पर किसी भी व्यक्ति व राजनीतिक दलों का सवाल उठाने पर उनके खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए।