रात को अच्छी नींद चाहिए तो इन चीजों से करें परहेज

रात को अच्छी नींद नहीं आने के कई कारण हो सकते हैं। वर्कलोड, टेंशन, पैसे की तंगी या इसी तरह की दूसरी कई परेशानियां… सही नींद नहीं आती है तो स्वास्थ्य से जुड़ी दूसरी तकलीफें बढ़ जाती हैं। नींद की कमी की वजह से वजन बढ़ता है, हाई बीपी की समस्या हो सकती है, यहां तक की दिल से जुड़ी बीमारियों होने का भी खतरा रहता है। पर क्या आप जानते हैं कई बार हमारे खानपान की वजह से भी हमारी नींद प्रभावित होती है? हमें अच्छी नींद आएगी या नहीं यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि हमने डिनर में क्या खाया है। ऐसे में अगर आपको भी रात में अच्छी नींद चाहिए तो सोने से पहले इन चीजों का सेवन न करें…

हमारे शरीर के सिस्टम में जाकर पचने में ऐल्कॉहॉल को काफी वक्त लगता है। यही वजह से है कि रात में ड्रिंक करके सोने के बाद बीच रात में अक्सर लोगों की नींद कई बार खुल जाती है। इतना ही नहीं, ऐल्कॉहॉल का सेवन करने के बाद सोने से आपकी नींद की च्ॉलिटी भी प्रभावित होती है। साथ ही ऐल्कॉहॉल का सेवन करने से खर्राटे भी बढ़ जाते हैं। ऐसे में अगर आप किसी के साथ अपना बेड शेयर करते हों तो आपको सामने वाले व्यक्ति की नींद का भी ध्यान रखना होगा। कॉफी या फिर चाय पीने का असर हमारे दिमाग पर पड़ता है। कैफीन की मात्रा वाली किसी भी चीज के सेवन से नींद पर असर पड़ता है। कैफीन का असर उसे पीने के 3-4 घंटे तक रहता है।

हालांकि डार्क चॉकलेट को अक्सर दूसरी चॉकलेट्स की तुलना में स्वास्थ्य के लिहाज से बेहतर विकल्प माना जाता है कि लेकिन ऐसा है नहीं। दरअसल, चाय-कॉफी की ही तरह डार्क चॉकलेट में भी कैफीन की मात्रा ज्यादा होती है। साथ ही इसमें थिओब्रोमाइन नाम का उत्तेजक पदार्थ पाया जाता है जिससे हार्ट रेट बढ़ जाता है और बेचैनी के साथ असहजता महसूस होने लगती है।

रात के समय बहुत स्पाइसी खाना नहीं खाना चाहिए। इससे जलन और गैस की प्रॉब्लम हो सकती है। ऑस्ट्रेलिया में हुई एक स्टडी के मुताबिक, जिन युवाओं और पुरुषों ने अपने रात के डिनर में स्पाइसी सॉस का इस्तेमाल किया उन्हें नींद आने और गहरी नींद में सोने में मुश्किल हुई, उन युवाओं की तुलना में जिन्होंने बिना मसाले वाला डिनर किया।

मीट में उच्च मात्रा में फैट और प्रोटीन होते हैं जिन्हें पचने में काफी समय लगता है और हमारे पाचन तंत्र पर दबाव बढ़ जाता है। ऐसे में शरीर का पूरा ध्यान नींद की बजाए मीट को पचाने में लग जाता है और आप रातभर बेचैन हो सकते हैं। लिहाजा डिनर में मीट खाना ही है तो खाएं लेकिन उसे खाने के बाद कुछ देर टहलें जरूर। मीट की ही तरह जंक फूड में भी उच्च मात्रा में सैचुरेटेड फैट होता है और इसे भी पचाने में काफी समय लगता है जिससे आपकी नींद प्रभावित हो सकती है। लिहाजा सोने से पहले जंक फूड का सेवन करने से बचें।