देशहित भूले कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष : पवन

  • सोशल मीडिया पर की गैर जिम्मेदाराना टिप्पणी चीन के लिए हो सकता है सार्थक
  • पवन ने कहा फेसबुक पोस्ट को तत्काल हटायें किशोर उपाध्याय

पन्तनगर/किच्छा।  एक ओर जहां देष की सीमाओं पर लगातार दुष्मन देष पाकिस्तान द्वारा घुसपैठ की कोषिषें तेज हैं और भारतीय सुरक्षा बल लगातार उनकी कोषिषों को विफल करने में सफल हो रहे हैं। तो वहीं चीन ने भी भारत के ऊपर अपनी नजरें तिरछी कर रखी हैं, चीन को अभी डोकलाम के बाद उत्तराखण्ड के बाराहाटी में घुसपैठ के प्रयास करते देखा गया। जिसके बाद से क्षेत्र मे भारतीय सुरक्षा बल भी सक्रिय हैं और चीन को मुंह तोड़ जवाब देने के लिए तैयार हैं ऐसा कहना है भारतीय जनता पार्टी के मीडिया प्रभारी पवन दूबे का। पवन ने कहा कि चीन केवल घुसपैठ कर पाकिस्तान को सहायता देने का प्रयास कर रहा है।

देषवासियों को अपने भारतीय सुरक्षा बलों पर पूर्ण विष्वास है कि जब तक वह देष की सीमाओं पर हैं तब तक पाकिस्तान और चीन जैसे देष लाख प्रयास के बाद भी कुछ नहीं कर सकते हैं। वहीं अभी दो दिन पहले सोषल मीडिया पर कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेष अध्यक्ष किषोर उपाध्याय ने फेसबुक पर चीन को लेकर एक गैरजिम्मेदाराना टिप्पणी की थी जिसके लिए भाजपा मीडिया प्रभारी पवन ने उनको आड़े हाथ लेते हुए उनकी देषद्रोही मानसिकता का बताया है। बता दें कि पूर्व में भी किषोर उपाध्याय ने बयान दिया था कि वह वन्देमातरम नहीं बोलेंगें और अब फेसबुक पर उनकी द्वारा की गई टिप्पणी सामने आई है जिसमें उन्होंने लिखा है कि ‘चीन से जब-जब तनाव बढ़ता है, टिहरी बाँध की चिन्ता होने लगती है।’

जिसको लेकर पवन ने उनका विरोध षुरू कर दिया है। पवन ने कहा कि चिन्ता करना जायज है क्योंकि यदि कोई अनहोनी हुई तो टिहरी बाँध से बहुत बड़ा क्षेत्र प्रभावित होगा। कहा कि किषोर उपाध्याय एक जिम्मेदार प्रतिनिधि हैं उनके द्वारा कि गई इस प्रकार की गैर जिम्मेदाराना टिप्पणी कर उन्होने चीन जैसे दुष्मनों को देष को क्षति पहुंचाने का एक अन्य विकल्प बताया है न कि चिन्ता जाहिर की है। पवन ने कहा कि राजनैतिक विचारधारा विपरीत होने का यह अर्थ नहीं की आप देष में रह कर देष के साथ गद्दारी करें। यदि वाकई चिन्ता थी तो पत्राचार के माध्यम से या व्यक्तिगत भेंट कर भर अवगत कराया जा सकता था। पवन ने मांग करी है कि किषोर उपाध्याय अपनी उस पोस्ट को हटायें जो देष के लिए क्षति का जरिया साबित हो सकती है।