शास्त्री के आदर्श और गांधी की अहिंसा हैं समाज का आईना

देहरादून। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर जारी अपने संदेश में कहा है कि शास्त्री जी के सिद्धांत एवं आदर्शों का अनुसरण कर हम देश और प्रदेश को उन्नति के पथ पर तेजी से आगे बढ़ा सकते है।

मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि शास्त्री जी ने सार्वजनिक जीवन में सादगी, सत्यनिष्ठा, लगन, नैतिकता व राष्ट्र के प्रति समर्पण की जो अदभुत मिसाल कायम की, वह हम सबके लिए प्रेरक है। उन्होंने कहा कि शास्त्री जी ने ‘जय जवान जय किसान’ का नारा देकर राष्ट्र को संकट की घड़ी में स्वाभिमान और एकजुटता के साथ मजबूती से खड़े होने का रास्ता दिखाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि शास्त्रीजी का व्यक्तित्व व कृतित्व देश की युवापीढ़ी के लिये सदैव प्रेरणा का स्रोत रहेगा।

महात्मा गंाधी के सत्य व अहिंसा के सि़द्धांत आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं। आज जब पूरा विश्व आतंकवाद से ग्रस्त है, गांधी जी के दिखाए मार्ग पर चलकर प्रेम, सद्भाव व शांति कायम की जा सकती है। गांधी जयंति पर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपने संदेश में कहा कि राज्य सरकार गांधीजी के ग्राम स्वराज की भावना के अनुरूप प्रजातांत्रिक मूल्यों की रक्षा व समाज के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति तक विकास का लाभ पहुंचाने के लिए संकल्पबद्ध है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधीजी ने ना केवल देश में राजनीतिक जागरूकता उत्पन्न की बल्कि सामाजिक कुरीतियों को दूर करने के लिए भी देशवासियों को जाग्रत किया। उन्होंने  विश्व को सत्य व अहिंसा की शक्ति से परिचय कराया।