लापवरवाही से कार्य कर रही कंस्ट्रक्शन कंपनियां

नई टिहरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट ऑलवेदर रोड के निर्माण कार्य में निजी कंपनियां गावर और एमजी कंस्ट्रक्शन कंपनी मनमानी और लापरवाही से काम कर रही हैं। जिससे लोगों की जान खतरे में पड़ी है। एसएसपी टिहरी के निर्देश पर हुई जांच में सामने आया है कि ऋषिकेश से चंबा रोड तक निर्माण में लगी कंपनियों ने सुरक्षा प्रबंध हवा में उड़ा दिए हैं।

इससे बीती 18 फरवरी को नरेंद्रनगर के पास ट्रक भी खाई में गिर गया था। जिसमें चालक की मौत हो गई थी। बीते दिनों नरेंद्रनगर थाना क्षेत्र में हुई वाहन दुर्घटना के बाद एसएसपी टिहरी विमला गुंज्याल ने नरेंद्रनगर पुलिस को ऑलवेदर रोड निर्माण कार्य के निरीक्षण करने और सुरक्षा प्रबंधों की स्थिति बताने के निर्देश दिए थे।

नरेंद्रनगर कोतवाली प्रभारी आरके सकलानी ने इस संबंध में नरेंद्रनगर से आगराखाल तक निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार की। रिपोर्ट में साफ लिखा गया है कि ऑलवेदर रोड निर्माण कार्य में लगी कंपनियां मानकों की अनदेखी कर रही हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि निर्माण स्थलों पर चेतावनी बोर्ड नहीं लगाए गए हैं। गावर कंपनी ने रोड की कङ्क्षटग कर सड़क किनारे एक किमी तक मलबे के ढेर लगा दिए हैं। जिससे वहां पर वनवे ट्रैफिक हो गया है।

ऐसे में वहां पर दुर्घटना का खतरा बना है। सड़क पर अनावश्यक रूप से मलबा डाला गया है और रात को चालकों को बताने के लिए फ्लैग मैन भी तैनात नहीं किए जा रहे हैं। सड़कों पर पत्थर डाले गए हैं। जिससे वाहनों के खाई में गिरने का खतरा बना है। इस रिपोर्ट के बाद बुधवार को नरेंद्रनगर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आरके सकलानी ने दोनों कंपनियों के अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हें सुरक्षा प्रबंध करने और सड़कों से हर दिन मलबा हटाने के निर्देश दिए। नरेंद्रनगर कोतवाली प्रभारी आरके सकलानी ने बताया कि इस संबंध में एसएसपी को रिपोर्ट भेज दी गई है।