संवैधानिक जिम्मेंदारियों का राजधर्म निभाने में विफल भाजपा

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने केन्द्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि भाजपा सरकारें संवैधानिक जिम्मेंदारियों को निभाने का राजधर्म निभा पाने में विफल साबित हो रही हैं।

मायावती ने केन्द्र की मोदी सरकार की तरह प्रदेश की योगी सरकार को भी सरकारी नौकरी उपलब्ध कराने, अपराध-नियन्त्रण व कानून-व्यवस्था के मामले में फिसिड्डी करार दिया है। उन्होंने कहा कि भाजपा की दोनों ही सरकारों से जनता व व्यापारी वर्ग का मोहभंग हो गया है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश अपनी तसल्ली के लिये अक्सर एक-दूसरे की तारीफें करते रहते हैं ताकि जनता का ध्यान बांटा जा सके। मायावती ने कहा है कि जेएनयू, डीयू, राजस्थान व गुवाहाटी विश्वविद्यालयों के बाद अब हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव में छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की करारी हार को देश के राजनीतिक बदलाव का नया शुभ शकुन बताकर उसका स्वागत किया है।

मायावती ने कहा है कि भाजपा के नेताओं ने जनता को विभिन्न प्रकार से बहका व वरगलाकर अपने अच्छे दिन बहुत देख लिये हैं, लेकिन अब देश की जनता उनको उनके बुरे दिन दिखाने का मन लगातार बनाती जा रही है। मायावती ने रविवार को जारी अपने एक बयान में कहा है कि हैदराबाद यूनिवर्सिटी में ए.बी.वी.पी. की करारी शिकस्त व ए.एस.जे. (एलायन्स फार सोशल जस्टिस) गठबंधन की शानदार जीत वास्तव में दलित स्कालर रोहित वेमूला को बेहतरीन श्रद्धांजलि है और केन्द्र की बीजेपी सरकार को सबक है कि वह दलित-विरोधी हरकतों से अब भी बाज़ आ जाये ताकि देश में किसी अन्य रोहित वेमूला को आत्महत्या करने के लिये मजबूर नहीं होना पड़े।

मायावती ने कहा है कि देश की आमजनता व खासकर छात्रों एवं युवा वर्ग में जो बेचैनी व आक्रोश है, वह अब विभिन्न रूपों में उबलकर सामने आने लगा है। कहा कि विश्वविद्यालयों के छात्र संघ के चुनाव परिणाम इस बात के प्रमाण हैं कि लोग गौरक्षा, घर वापसी, लव जिहाद, एण्टी-रोमियों, देशगान व राष्ट्रीय सुरक्षा आदि इन भावनात्मक मुद्दों के चंगुल से निकलकर जीवन के वास्तविक मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित करने लगे हैं।